मध्य प्रदेश न्यूज़: उज्जैन में बनेगा विश्व रिकॉर्ड, 21 लाख दिपो से चमकेगी अवंतिका नगरी, अब तक का सबसे भव्य आयोजन

मध्य प्रदेश न्यूज़: बाबा महाकाल की नगरी उज्जैन में महाशिवरात्रि के पर्व पर दीप प्रज्वलित करने का भव्य आयोजन किया जाएगा जिसमें उज्जैन विश्व रिकॉर्ड बनाने जा रहा है। बाबा महाकाल की नगरी उज्जैन में एक साथ 21 लाख दीप प्रज्वलित किए जाएंगे।

उज्जैन में बनेगा विश्व रिकॉर्ड


मध्य प्रदेश न्यूज़: इस महाशिवरात्रि पर्व पर उज्जैन महाकाल की नगरी एक विश्व रिकॉर्ड बनाने जा रही है जिसमें वह अयोध्या को भी पीछे छोड़ देगी। आज महाशिवरात्रि के पर्व पर उज्जैन नगरी में विश्व रिकार्ड बनने जा रहा है। उज्जैन में महाशिवरात्रि के पर्व पर एक साथ 21 लाख दीप प्रज्वलित किए जाएंगे। 1 मार्च यानी आज शिव ज्योति अर्पणम महोत्सव के दौरान यह दीप प्रज्वलित करने का आयोजन किया जाएगा। कुछ दिनों पहले से ही उज्जैन नगरी में शिप्रा नदी के तट पर, सभी देव स्थानों पर और मंदिरों पर, नगर में हर घर-घर में दीप प्रज्वलित करने की तैयारियां की जा रही थी। इसी के साथ उज्जैन अयोध्या को पीछे छोड़ अपना नाम विश्व रिकॉर्ड में शामिल कर लेगा।

क्षिप्रा नदी के तट पर प्रज्वलित होंगे 13 लाख दिपक

मध्य प्रदेश न्यूज़: उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ने मीडिया में चर्चा करते हुए बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आव्हान पर आयोजित होने वाले उज्जैन में इस भव्य आयोजन में शिप्रा नदी के तट पर ही दोनों तरफ 13 लाख दीपक प्रज्वलित किए जा रहे हैं। इसके अलावा शहर के सभी मंदिरों, प्रमुख सार्वजनिक स्थलों और नागरिक भी अपने-अपने घरों में दीपक प्रज्वलित करेंगे। इसी के साथ उज्जैन में महाशिवरात्रि के पर्व पर कुल 21 लाख दीप प्रज्वलित किए जाएंगे। 

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम उज्जैन पहुंच चुकी है

मध्य प्रदेश न्यूज़: उज्जैन में हो रहे इस आयोजन को रिकॉर्ड के रूप में दर्ज करने वाली गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम भी उज्जैन पहुंच चुकी है। नागरिकों से नगर निगम ने संकल्प पत्र भरवाए है। 17 हजार से अधिक स्वयंसेवकों ने पंजीयन कराया है। इससे पहले दीप प्रज्वलित करने का विश्व रिकॉर्ड अयोध्या के नाम है जहां पर एक साथ 9.41 लाख दीपक प्रज्वलित कर रिकॉर्ड बनाया गया था। इसी के साथ समिति द्वारा जीरो वेस्ट का लक्ष्य रखा गया है जिसमें बिना ज्यादा खर्चे के कार्यक्रम का आयोजन किया जाना है। स्वयंसेवकों के पहचान पत्र क्यूआर कोड के जरिए रीसायकल पेपर से बनाए गए हैं। भव्य महोत्सव के बाद सभी दीपों का उपयोग कंपोस्टिंग, मटके बनाने में किया जाएगा और बच्चे हुए तेल का उपयोग गौशाला में किया जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Popular Posts

मध्यप्रदेश न्यूज़: गुराडिया देदा में हुई रहस्यमय मौत, 2 फिट पानी के टैंक में गिरकर हुई उत्तरप्रदेश के 19 साल के युवक की मौत
मध्य प्रदेश न्यूज़: मंदसौर में एक ही दिन में मिली दो लाशें, एक गुमशुदा युवती तेलिया तालाब और दूसरे व्यक्ति की शिवना नदी में मिली लाश
मध्यप्रदेश न्यूज़: मंदसौर में एक साथ तीन लड़कियां तालाब में डूबी, मरने वाली में दो सगी बहनों और एक अन्य लड़की शामिल है
मध्यप्रदेश न्यूज़: बलि देने तलवार निकाली, सामने बैठे व्यक्ति को लगी; मौत, मन्नत पूरी होने पर आगर मालवा से आया था परिवार
मध्यप्रदेश न्यूज़: मंदसौर में गैस सिलेंडर हुआ ब्लास्ट, पूरा घर जलकर हुआ राख, 1 लाख 20 हजार रुपए की नकदी भी जली