जीएसटी बढ़ाने पर मंदसौर के कपड़ा व्यापारियों ने जताया विरोध, इससे कपड़ा व्यापारियों की कमर टूट जाएगी

 कपड़ों पर 12% जीएसटी होने से व्यापारियों ने विरोध जताया 2021



जीएसटी बढ़ने पर प्रदेश के मंदसौर जिले में सभी व्यापारियों ने विरोध प्रदर्शन किया। मंदसौर के सभी कपड़ा व्यापारियों ने जीएसटी बढ़ने के विरोध में अपनी दुकानों को बंद रखा और विरोध प्रदर्शन किया। व्यापारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि पहले कपड़ों पर सिर्फ 5% जीएसटी लगती थी लेकिन नए फैसले के अनुसार अब 1 जनवरी से कपड़ों पर 12% प्रतिशत जीएसटी लगाई जाएगी। इसी फैसले के कारण व्यापारियों में आक्रोश है। जानकारी में बताया गया है कि 1 जनवरी 2022 से पहले कपड़ों पर 5% जीएसटी लगाई जाती थी। व्यापारियों को बीच में अधिक नुकसान नहीं होता था लेकिन अब 12% जीएसटी लग जाने से व्यापारियों को नुकसान होगा इसलिए व्यापारियों ने इसका विरोध जताया।




दोपहर तक दुकानें बंद रख व्यापारियों ने किया विरोध प्रदर्शन




इसी का विरोध करते हुए मंदसौर के कपड़ा व्यापारियों ने दोपहर तक अपनी दुकानों को बंद रखा और जीएसटी बड़ने पर विरोध प्रदर्शन किया। व्यापारियों का कहना है कि जब पहले कपड़ों पर 5% जीएसटी थी तब व्यापारियों ने राष्ट्र के विकास के लिए खुद की इच्छा से पैसे दिए थे लेकिन अब सरकार ने जीएसटी बढ़ाकर 12% कर दी है। इससे व्यापारियों को खासा नुकसान हो रहा है। अगर सरकार कपड़ों पर 12% जीएसटी लगाती है तो व्यापारियों की कमर टूट जाएगी। व्यापारियों ने विरोध जताते हुए कहा कि कपड़े व्यापारी कोई चोर नहीं है बल्कि इमानदारी से अपने जीएसटी की कीमत चुकाते हैं। 




पहले ही पिछले 2 सालों से व्यापारियों का धंधा ठप चल रहा है




व्यापारियों ने विरोध जताते हुए कहा कि पहले ही पिछले 2 सालों से कोरोनावायरस के कारण कपड़े व्यापारियों का धंधा ठप चल रहा था। इस वर्ष जैसे ऐसे व्यापारियों को अपने धंधे में फायदा मिलने लगा था कि अचानक सरकार ने कपड़ों पर जीएसटी बढ़ाने का फैसला ले लिया। ऐसे में कपड़ा व्यापारियों को बड़ा नुकसान होगा और कपड़ा व्यापार पर भी बड़ा असर पड़ेगा।  इस बार भी दुकान के मालिकों ने प्रतिवर्ष जैसे दुकानों के किरायों में बढ़ावा कर दिया है। ऐसे में अगर प्रशासन भी व्यापारियों का साथ नहीं देगी तो बदल जाएगा। इस प्रकार से व्यापारियों ने सरकार से जीएसटी कम करने की मांग की।





एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ