कैसा रहा 2021 का मंदसौर: मंदसौर में गठित हुई सभी बड़ी घटनाएं जो हमेशा के लिए इतिहास के पन्नों में छप गई



मंदसौर में घटित 2021 की सभी बड़ी घटनाएं 


जहरीली शराब ने ली 11 की जान तो तस्करों पर पुलिस ने कसी लगाम






मंदसौर शहर में जिला मुख्यालय से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक कोरोना महामारी में अपराध हुए। जुलाई के महीने में जहरीली शराब से 11 लोगों की मौत हो गई और कुछ लोगों की आंखें चली गई। पुलिस ने अवैध मादक पदार्थों के तस्करों पर कार्यवाही की और मामला केंद्र स्तर तक पहुंच गया। जिसके चलते कुख्यात तस्कर लियाकत को पुलिस ने पकड़ा तो अन्य तस्कर कमल राणा की भी पुलिस को तलाश हो गई। वहीं चोरियों को पुलिस रोकने में नाकाम रही है। जिसके चलते जिला मुख्यालय से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में कई चोरियां भी हुई। इसमें कुछ बड़ी चोरियां अब तक पुलिस खुलासा नहीं कर पाई है। पुलिस प्रशासन ने भू माफियाओं से लेकर बदमाशों के खिलाफ बड़ी कार्यवाही करते हुए करीब 70 करोड़ से अधिक की सरकारी जमीन को मुक्त करवाया। पुलिस ने जहरीली शराब मामले के खिलाफ 21 से अधिक लोगों पर प्रकरण दर्ज किया था जिसमें से लगभग सभी आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।




शादी में की पूर्व सरपंच की हत्या




मंदसौर जिले के भानपुरा थाना क्षेत्र में भैसोदा गांव में 12 दिसंबर को रामपाल महाराज के अनुयायियों द्वारा आयोजित शादी कार्यक्रम में 1 दर्जन से अधिक बदमाशों ने हंगामा मचाया था। इस दौरान बदमाशों द्वारा पंडाल में तोड़फोड़ और मारपीट की गई थी। आरोपी शैलेंद्र ओझा ने पूर्व सरपंच देवी लाल मीणा की इस दौरान गोली मारकर हत्या कर दी थी। पुलिस ने इस मामले में 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है वहीं मुख्य आरोपी शैलेंद्र उर्फ चंदू अभी फरार चल रहा है।



35 लाख रूपए से अधिक की चोरी



जिले में इस साल कई बड़ी बड़ी चोरियां भी हुई। इसमें से सबसे बड़ी चोरियों में जिला मुख्यालय के स्नेह नगर में हुई चोरी सामने आई है जहां 5 दिसंबर को विनोद जाट के सूने घर में चोरों ने चोरी की वारदात को अंजाम दिया था और काफी बड़ा हाथ मार गए थे। चोरी करीब साढ़े चार लाख रुपए से अधिक नगदी एवं 30 लाख से अधिक रुपए के जेवरात चुरा ले गए थे। पुलिस ने मामले में प्रकरण दर्ज किया है लेकिन अभी तक पुलिस को किसी भी प्रकार का सुराग नहीं मिल पाया है। पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है।




क्विंटलो वजन की तिजोरी उठा ले गए चोर





दलोदा नगर के फोर लाइन पर स्थित किराना दुकान से 3 नवंबर को रात लगभग 2:00 बजे 22 लाख रुपए की चोरी की वारदात को अंजाम दिया गया था। चोर जब तिजोरी तोड़ने में सफल नहीं हो पाए थे तो पूरी तिजोरी ही उठा ले गए थे। चोरों द्वारा दुकान के साइड में लगी छोटी शटर को खोल कर अंदर घुसे थे और पीछे दुकान में रखी तिजोरी को निकाल कर ले गए थे। तिजोरी दीवाल में लगी हुई थी। पुलिस ने जांच करते हुए सीसीटीवी कैमरे में देखा लेकिन चोर सीसीटीवी कैमरे की डीवीआर भी उठा ले गए थे। तिजोरी का वजन लगभग 4 क्विंटल बताया जा रहा था। पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है।




70 करोड़ से अधिक रुपए की जमीन को कराया मुक्त





जिले में कई रसूखदारों और माफियाओं के द्वारा सरकारी जमीन पर कब्जा किया गया था। इन भू माफियाओं और बदमाशों ने कब्जा करने के साथ-साथ जमीन पर स्थाई अतिक्रमण करते हुए भवन निर्माण कर दिए थे। ऐसे में बदमाशों को पुलिस प्रशासन ने चिन्हित किया और माफिया अभियान के तहत कार्यवाही शुरू की। जिले में कोरोना में लगे लॉकडाउन को छोड़ दे तो जहरीली शराब कांड के आरोपियों के अवैध अतिक्रमण तोड़ने से यह सिलसिला शुरू हुआ था जिसके बाद यह लगातार जारी था और प्रशासन इस पर कार्यवाही करता जा रहा था। ऐसे में प्रशासन ने अब तक करीब 70 करोड़ से अधिक की सरकारी जमीन को मुक्त करवा दिया है। सिलसिला अभी भी चल रहा है।




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ