भारत ने अपनी स्वदेशी मिसाइल प्रलय का किया सफल परीक्षण, दुश्मन देशों में मची हाहाकार




 भारत में पहली बार ऐसी मिसाइल का सफल परीक्षण किया है जो डीआरडीओ (DRDO) द्वारा तैयार की गई है जो

भारत के सभी दुश्मन देशों पर प्रलय लाने के लिए काफी है यह मिसाइल इतनी खतरनाक है कि कुछ सेकंड में दुश्मनों के ठिकानों और कई बड़े हथियारों को नष्ट कर सकती है इसीलिए इस मिसाइल का नाम प्रलय रखा गया है जो सतह से सतह पर मार करने वाली एक बैलेस्टिक मिसाइल है जिस का सफल परीक्षण उड़ीसा के एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप से किया गया है डीआरडीओ ने प्रलय मिसाइल के परीक्षण का वीडियो जारी किया है।


प्रलय एक शॉट रेंज मिसाइल है जिसका निशाना अचूक है यह मिसाइल एक बार अपने टारगेट को चुनने के बाद उसे खत्म करके रहती है चाहे टारगेट एक जगह से दूसरी जगह चला जाए फिर भी यह मिसाइल हवा में ही अपना रास्ता बदल कर टारगेट के पीछे जाती है और उसे खत्म कर कर रहती है


प्रलय मिसाइल के बारे में और जानकारी

प्रलय मिसाइल की रेंज 150 किलोमीटर से 500 किलोमीटर तक है और इसे आसानी से बॉर्डर पर तैनात किया जा सकता है अगर इसकी जरूरत पड़ती है तो यह दुश्मनों के बंकर, टोफ, टैंक आदि को कुछ सेकंड में तबाह कर सकती है आपको बता दें कि भारत अपनी मिसाइल ताकत को लगातार बढ़ाता जा रहा है प्रलय मिसाइल को डीआरडीओ(DRDO) ने डिजाइन और तैयार किया है यह मिसाइल पूरी तरह स्वदेशी मिसाइल है कुछ सप्ताह पहले ही डीआरडीओ ने परमाणु सक्षम बैलेस्टिक मिसाइल अग्नि प्राइम का सफल परीक्षण किया था भारत जल्द ही अपनी अगली जनरेशन की ब्रह्मोस मिसाइल का प्रोडक्शन भी उत्तर प्रदेश में शुरू करने वाला है स्वदेशी मिसाइल प्रलय को विकसित करने की अनुमति वर्ष 2015 में दी गई थी खास बात यह है मात्र 24 घंटे के भीतर ही प्रलय मिसाइल का दो बार सफल परीक्षण किया गया प्रलय मिसाइल के सफल परीक्षण पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी डीआरडीओ को बधाई दी। उसके अलावा भारत के पास सबसे अधिक रेंज वाली मिसाइल है जिसका नाम अग्नि-5 जो 5000 किलोमीटर से अधिक दूरी तक हमला करने में सक्षम है और यह परमाणु हथियार ले जाने में भी सक्षम है यह पूरी तरह स्वदेशी मिसाइल है। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ