पंचायत चुनाव पर फैसला: तीन सालों से एक ही पंचायत पर राज कर रहे सचिवों का होगा तबादला


पंचायत चुनाव से पहले सचिवों का किया जाएगा तबादला 2021



प्रदेश में पंचायत चुनाव आने वाले हैं और उसको लेकर तेजी से तैयारियां चालू हो गई है। जिले में सभी गांव में उम्मीदवारों को प्रशस्ति पत्र भी दे दिए गए हैं। चुनाव होने से पहले चुनाव आयोग ने ग्रामीण क्षेत्रों में पिछले 3 सालों से एक ही पंचायत पर राज कर रहे सचिवों का तबादला करने का फैसला लिया है। चुनाव आयोग ने जानकारी देते हुए बताया कि एक ही ग्राम पंचायत में 3 सालों से सत्ता संभाल रहे सचिवों का दूसरी ग्राम पंचायतों में तबादला किया जाएगा। राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव ने इसके लिए ग्रामीण क्षेत्रों के प्रमुख सचिव को पत्र लिखा है।



चुनाव में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष निर्वाचन होना चाहिए



चुनाव आयोग ने कहा है कि अगर स्वतंत्र एवं निष्पक्ष निर्वाचन के उद्देश्य को हासिल करना है तो ग्राम पंचायतों के सचिवों का तबादला करना बहुत जरूरी है। चुनाव आयोग ने इसको लेकर ग्रामीण विकास विभाग के प्रमुख सचिव को पत्र भी जारी कर दिया है। चुनाव आयोग प्रशासन से यह अपेक्षा कर रहा है कि ऐसे सचिवों का तबादला किया जाए जो पिछले 4 सालों से एक ही ग्राम पंचायत पर पदस्थ हो या ऐसे सचिव जिनके क्षेत्र में उनका ग्रह ग्राम भी शामिल है उन्हें किसी अन्य पंचायत में स्थानांतरित किया जाए। ऐसा करने से आने वाले पंचायत के चुनाव निष्पक्ष और स्वतंत्र तरीके से होने की अधिक संभावना होगी।



लंबे समय से एक ही पंचायत में पदस्थ सचिव चुनाव पर असर डालते हैं




चुनाव आयोग का कहना है कि जिस ग्राम पंचायत में 3 साल से अधिक कोई भी सचिव सत्ता संभालता है तो आने वाले चुनाव में वह किसी भी प्रकार से चुनाव को प्रभावित कर सकता है, इसीलिए चुनाव आयोग ने यह फैसला लिया है। हालांकि देश में फिर से कोरोनावायरस के नए वेरिएंट ने दस्तक दे दी है जिससे दोबारा चर्चाएं शुरू हो गई है।प्रशासन फिर से सतर्क हो गया है। सरकार ने स्कूलों को फिर से 50 फ़ीसदी क्षमता से खोलने का आदेश दे दिया है। ऐसे में चुनाव को लेकर विभिन्न बातें हो रही है। अब उच्च अधिकारियों के आदेश के बाद आगे की प्रक्रिया की जाएगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ