जल्द बनेगा मंदसौर में मेडिकल कॉलेज: इलाज के लिए अब दूर नहीं जाना पड़ेगा, 270 करोड़ की मंजूरी


मंदसौर में जल्दी बनेगा मेडिकल कॉलेज 2021



मंदसौर में लंबे समय से मेडिकल कॉलेज के लिए मांग चल रही है। अब जाकर मध्य प्रदेश कैबिनेट में मेडिकल कॉलेज के लिए मंजूरी मिल गई है। मंदसौर में बनने वाले मेडिकल कॉलेज के लिए 270 करोड़ 58 लाख रुपए की मंजूरी मिली है। देश की केंद्र सरकार ने वर्ष 2020 में देश के अलग-अलग होने में छात्रों की समस्या दूर करने के लिए मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा की थी। उसके अंतर्गत मंदसौर जिले में भी मेडिकल कॉलेज को मंजूरी मिली थी। केंद्र सरकार ने यह भी घोषणा की थी कि मेडिकल कॉलेज के निर्माण में 60 फिसदी रूपये केन्द्र सरकार और 40 फिसदी राशि राज्य सरकार को देनी होगी।मंदसौर मेडिकल कॉलेज का रास्ता भी साफ हो गया है



अब इलाज के लिए इंदौर, उदयपुर और अहमदाबाद नहीं जाना पड़ेगा




देश भर में मेडिकल कॉलेज के साथ साथ मंदसौर में भी मेडिकल कॉलेज के लिए रास्ता साफ हो गया है। मेडिकल कॉलेज का निर्णय एक वर्ष देरी से हुआ है क्योंकि केन्द्र सरकार ने तो वर्ष 2020 में ही मेडिकल कॉलेज के लिए मंजूरी दे दी थी लेकिन राज्य में सत्ता परिवर्तन होने के कारण राज्य सरकार से एक साल बाद मेडिकल कॉलेज के लिए मंजूरी मिली। अब जाकर मुख्यमंत्री शिवराज की कैबिनेट बैठक में मंदसौर को बड़ी सौगात मिल गई है। मंदसौर में बनने वाले मेडिकल कॉलेज का रास्ता अब पूरी तरह से साफ हो गया है। मंदसौर जिले के साथ साथ अब मध्यप्रदेश के मंदसौर से लगे राजस्थान के इलाके वाले लोगों को भी फायदा मिलेगा। पहले लोगों को इलाज करवाने के लिए इंदौर, उदयपुर और अहमदाबाद जाना पड़ता था लेकिन अब लोगों को इतना दूर नहीं जाना पड़ेगा।



राज्य सरकार ने एक साल जमीन ढुढने में लगा दिया



केंद्र सरकार ने वर्ष 2020 में ही मेडिकल कॉलेज के लिए मंजूरी दे दी थी लेकिन राज्य सरकार ने पूरा 1 साल सिर्फ जमीन ढूंढने में बर्बाद कर दिया। राज्य सरकार ने सर्वप्रथम संजीत रोड पर मेडिकल कॉलेज के लिए जमीन को चिन्हित किया था लेकिन विरोध प्रदर्शन होने के कारण वहां से जमीन को छोड़कर फोरलेन हाईवे पर मेडिकल कॉलेज के लिए जमीन को चिन्हित किया गया। इसके लिए 7.142 हेक्टेयर भूमि को चिन्हित किया गया है। हाईवे से लगे आरटीओ कार्यालय, पुलिस क्वार्टर और हॉकी मैदान के बीच में तीन हिस्सों में जगहों को चिन्हित किया गया है। जगह के एक हिस्से में डॉक्टर और स्टाफ के लिए मकान बनाए जाएंगे और दूसरे हिस्से में मेडिकल कॉलेज बनाया जाएगा। यशपाल सिंह सिसोदिया ने जानकारी देते हुए बताया कि मेडिकल कॉलेज के लिए डीपीआर से लेकर तमाम तैयारियां पूरी हो चुकी है। जल्द ही भूमि पूजन कर योजना की शुरुआत हो जाएगी।






एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ