2 सालों बाद भगवान पशुपतिनाथ महादेव पटोत्सव मेले का हुआ शुभारंभ, 15 दिवसीय रहेगा मेला


भगवान पशुपतिनाथ 15 दिवसीय मेले का शुभारंभ 2021



2 सालों बाद फिर से भगवान पशुपतिनाथ महादेव का मेला जगमगाया। पिछले साल कोरोना की भेंट चढ़ा भगवान पशुपतिनाथ मंदिर पर लगने वाला कार्तिक उत्सव का मेला इस बार आनन-फानन में सीमित रूप में ही सही लेकिन लगाया जा रहा है और इसका शुभारंभ भी हो चुका है। इसकी शुरुआत बाल दिवस पर रविवार से हो गई है। जो पखवाड़े तक जारी रहेगा। हर वर्ष 600 से अधिक दुकानों के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं बल्कि 200 दुकानों के अलावा मेला वैक्सीनेशन सेंटर के साथ लगाया जा रहा है। प्रत्यक्ष आनंद महाराज की पूजा अर्चना के साथ भगवान पशुपतिनाथ का आकर्षक श्रंगार किया गया।



15 दिवसीय रहेगा इस बार भगवान पशुपतिनाथ का मेला


भगवान पशुपतिनाथ मंदिर में कार्तिक मेले की शुरुआत हो चुकी है। नगर पालिका द्वारा 15 दिवसीय पशुपतिनाथ मेला आयोजित किया जा रहा है। रविवार को सादगी पूर्ण रूप से पशुपतिनाथ महादेव मंदिर परिसर में आयोजित पटोत्सव से मेला का शुभारंभ हुआ। नगर पालिका प्रशासन मंदसौर पशुपतिनाथ प्रबंध समिति के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित इस कार्यक्रम में संत महेश चैतन्य महाराज, विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया, कलेक्टर गौतम सिंह ,भाजपा जिला अध्यक्ष नानालाल अटोलिया ने 15 दिवसीय मेला आयोजित करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक स्विच दबाकर मेला का शुभारंभ किया। इससे पहले सभी अतिथियों ने विश्व विख्यात पशुपतिनाथ महादेव मंदिर पहुंचकर अष्ट मुखी प्रतिमा के दर्शन किए तथा यहां नगर पालिका एवं पशुपतिनाथ मंदिर प्रबंधक समिति द्वारा आयोजित महोत्सव में सहभागिता की।



सांस्कृतिक मंच के फंड से मेला व्यवसायियों को राहत दी जाए



भगवान पशुपतिनाथ मेले का आयोजन में कोरोना न्यू का पालन होना चाहिए लेकिन मेला व्यवसायियों के आर्थिक हितों का ध्यान भी रखना बहुत जरूरी है। सेवा बैंक के संचालक सुनील बंसल ने वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा और पर्यावरण मंत्री हरदीप सिंह डंग, सांसद सुधीर जी गुप्ता, विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया एवं कलेक्टर से मांग की है कि मेले में सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं हो रहे हैं और महामारी का अभी भी प्रकोप नजर आ रहा है। ऐसे में दुकानदार को आर्थिक नुकसान नहीं हो इसलिए नगरपालिका के माध्यम से भूखंडों को निशुल्क किया जाना चाहिए ताकि व्यापारियों को थोड़ी आर्थिक मदद मिल सके।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ