मंदसौर पशुपतिनाथ मेला शुरू: भक्तों ने किया दीपदान, अभी भी 30 फ़ीसदी झूले और दुकाने तैयार नहीं हो पाए हैं

 

भगवान पशुपतिनाथ मेले का शुभारंभ 2021



भगवान पशुपतिनाथ मंदसौर मेले का शुभारंभ हो चुका है और हजारों में भक्तों की भीड़ दीपदान करने भी पहुंच रही है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन भक्तों की बड़ी मात्रा में भीड़ शिवना नदी के तट पर बनी रही। कार्तिक पूर्णिमा के दिन से ही मंदसौर पशुपतिनाथ मेले में रौनक आ जाती है क्योंकि इसी दिन से सभी लोग मेला देखने की शुरुआत करते हैं। शुक्रवार को भी पशुपतिनाथ मेले में हजारों की संख्या में लोगों की भीड़ लगी रही लेकिन अभी भी मेला परिसर में 30 फ़ीसदी से अधिक दुकानें और झूले चकरी अधूरे पड़े हैं।




प्रशासन की देरी से व्यापारी नहीं उठा पाए कार्तिक पूर्णिमा का लाभ



इस बार मेले की अनुमति देने में प्रशासन ने काफी देरी कर दी और इसी का नतीजा कार्तिक पूर्णिमा को देखने को मिला जब मेले में भीड़ लग रही थी और 30 फ़ीसदी से अधिक दुकानें खाली पड़ी थी। प्रशासन की इस देरी के कारण कई व्यापारी कार्तिक पूर्णिमा का लाभ नहीं उठा सके। हालांकि जिन व्यापारियों ने दुकानें खोल दी थी उन्हें अच्छा खासा फायदा हुआ है। प्रशासन की देरी के कारण व्यापारियों में नाराजगी दिख रही है। सुरक्षा के लिए मेला परिसर और शिवना तट पर पुलिस जवान तैनात कर रखे थे। कार्तिक पूर्णिमा के चलते शिवना तट पर भी सुबह से लेकर शाम तक भक्तों की भीड़ लगी रही।



महिलाओं ने सुख समृद्धि की कामना कर बहाई टाटीया



बड़ी संख्या में महिलाओं ने भी सुख समृद्धि की कामना करते हुए टाटिया बहाई। शुक्रवार को भगवान पशुपतिनाथ मंदिर मेले में आस्था और विश्वास का अनूठा संगम देखने को मिला। प्रतिवर्ष कार्तिक पूर्णिमा पर लाखों भक्त पशुपतिनाथ मंदिर पहुंचते हैं और सुख समृद्धि की कामना करते हैं। महिलाएं मानती है कि व्रत तभी पूरा होता है जब टाटी में दीपक रखकर शिवना नदी में बहाया जाता है। भक्तों ने प्रतिवर्ष भगवान पशुपतिनाथ के प्रांगण में लगने वाले मेले का भी खूब आनंद उठाया। मेले में बची हुई दुकानों का कार्य भी तेजी से चल रहा है। दो-तीन दिनों में मेला पूरी तरह से खिल जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ