मंदसौर को हॉकी में रोशन करने वाली खिलाड़ी के झोपड़ी में अंधेरा, प्रशासन ने काटा घर का बिजली कनेक्शन

 मंदसौर में हॉकी का नाम रोशन करने वाली सागू के घर से काटा बिजली कनेक्शन 2021



प्रशासन द्वारा करोड़ों रुपए खर्च कर मंदसौर में हॉकी को बढ़ावा देने के लिए एक एस्ट्रोटर्फ मैदान तैयार किया गया है लेकिन मंदसौर का नाम हॉकी में रोशन करने वाली राष्ट्रीय खिलाड़ी व्यवस्था की मार झेल रही है। हाकी मे मंदसौर का नाम रोशन करने वाली सागू गांव से आकर शहर में झोपड़ी बनाकर रहती है। सागू की मां दूसरे के घरों में झाड़ू पोछा लगाती है। सागू डाबर हाकी में मंदसौर की नई रोशनी बनकर उभर रही है और स्थानीय स्टेडियम के पास अपनी छोटी झोपड़ी बनाकर रहती है। प्रशासन ने झोपड़ी अवैध कब्जे में होने के कारण उसे हटाने का आदेश दे दिया है और बिजली प्रशासन ने सागू की झोपड़ी से बिजली कनेक्शन भी काट दिया है। इससे सागू घबरा गई है और आंखों में आंसू लेकर परिवार को संभालने का प्रयास कर रही है। इसके साथ ही सागू के साथी खिलाड़ियों का कहना है कि प्रशासन के इस कदम से सागू पूरी तरह टूट जाएगी।




सागू स्कूल से लौटी तो घर में अंधेरा



राजस्व विभाग अमले ने 1 सप्ताह का समय दिया था लेकिन शनिवार सुबह ही अमला पहुंच गया और साधु के घर से बिजली कनेक्शन काट दिया। उस समय सागू डाबर स्कूल गई थी और जब घर पहुंची तो देखा कि विभाग वाले बिजली कनेक्शन काट गए हैं। जब कहीं से भी मदद नहीं मिली तो सागु की आंखों में आंसू आ गए। सागू ने बताया कि विभाग वालों ने 1 सप्ताह का समय दिया था लेकिन बिना बताए ही बिजली कनेक्शन काट दिया। सागू ने बताया कि उनकी कोई मदद नहीं कर रहा है। उसके स्कूल में प्री बोर्ड परीक्षा भी आ चुकी है। अब वह पढ़ाई कैसे करेंगी। साधु ने अपनी मां और अपने छोटे भाई को रोते हुए संभाल कर कहा है कि अगर प्रशासन हमें यहां से हटा रहा है तो आवास योजना का लाभ भी दे। प्रशासन ने यहां से हटा दिया तो वह बेघर हो जाएगी।



ऐसा हुआ तो सागू हॉकी भी नहीं खेल पाएगी 



अगर सागू का घर टूट गया तो उसका परिवार पूरी तरीके से बिखर जाएगा। उसके पिता नहीं हैं। झाड़ू पोछा लगाकर वह हॉकी खेलती है और स्कूल जाने के साथ-साथ घर चलाने में भी अपनी मां की मदद करती है। बड़ी जिम्मेदारी और मुसीबतों का सामना कर वह हॉकी खेल रही है और टीम में वह काफी अच्छा खेलती भी है। प्रशासन अगर उसका घर हटा देगा तो अच्छा नहीं होगा। वह गांव से रोज आकर हो कि नहीं खेल पाएगी और ऐसा हुआ तो उसकी हाकी छूट जाएगी। अगर वहां से हटाई जाएगी तो प्रशासन को दूसरी जगह आवास  देना चाहिए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ