पिपलिया मंडी: खेत पर रात को सिंचाई करने गया था किसान, सुबह तक घर नहीं लौटा तो कुएं में मिली लाश

 

पिपलिया मंडी में रात को खेत पर सिंचाई करने गए किसान की कुएं में गिरने से मौत 2021




पिपलिया मंडी में एक किसान की कुएं में गिरने से मौत हो गई। घटना पिपलिया मंडी क्षेत्र के गांव बेलारा की है जहां पर 50 वर्षीय किसान की सिंचाई के दौरान कुएं में गिरने से मौत हो गई। परिजनों ने बताया कि किसानों रात को अपने खेत पर फसल की सिंचाई करने गया था लेकिन सुबह तक जब वह घर नहीं लौटा तो उसका पुत्र कुए पर देखने गया। जब खेत पर भी पिताजी नहीं दिखे तो पुत्र ने सभी को बताया और इसके बाद ग्रामीण और परिजन किसान की तलाश में लग गए। कुछ देर बाद किसान की लाश कुएं में दिखी। इसके बाद ग्रामीणों ने तुरंत पुलिस को सूचना दी और पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लाश को बाहर निकाला और पिपलिया मंडी अस्पताल पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया।




बेटा खेत पर पहुंचा तो पलंग पर टोर्च और नीचे सिर्फ चप्पल ही थी




ग्रामीणों ने पुलिस को जानकारी देते हुए बताया कि ओम प्रकाश पुत्र राम चंद्र जाटव अपने घर से 1 किलोमीटर दूर स्थित अपने ही खेत पर रात को सिंचाई करने एवं विद्युत मोटर की निगरानी रखने के लिए गया था। सुबह जब उनका बेटा रामचंद्र जाटव खेत पर पिताजी के लिए चाय लेकर गया तो वहां पिताजी नहीं थे। उनके बेटे ने इधर उधर जाका तो भी पिताजी नहीं दिखे। उनके पलंग पर सिर्फ टॉर्च और चप्पल ही पड़ी थी। अनहोनी की शंका पर पुत्र ने तुरंत सभी को सूचना दी और ग्रामीण भी मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों ने जब कड़ियों की सहायता से कुएं में तलाश की तो किसान ओमप्रकाश का शव मिल गया। ए एस आई एस डामोर ने घटनास्थल पर पहुंचकर जांच की।




ओमप्रकाश के खेत से पहले दो बार बदमाश विद्युत मोटर चोरी कर गए थे



पुलिस ने बताया कि ओम प्रकाश के खेत से पहले भी अज्ञात बदमाश दो बार विद्युत मोटर चोरी कर गए थे और इसीलिए वह रोज निगरानी रखने के लिए खेत पर जाता था। इसी दौरान वह किसी कार्य को करते हुए कुएं में गिर गए। ब्लॉक अध्यक्ष अनिल शर्मा और महामंत्री दिनेश गुप्ता ने बताया कि पिपलिया मंडी क्षेत्र में रात को विद्युत मोटर चोरी होने की बहुत खबरें सामने आ रही है। लगातार हो रही चोरियों के कारण किसान परेशान हो चुके हैं। सैकड़ों मामले सामने आने के बाद भी पुलिस चोरियों पर अंकुश नहीं लगा पा रही है। पुलिस की लापरवाही से किसानों को रात खेतों में ही गुजारनी पड़ रही है। किसानों ने जल्द से जल्द चोरियों पर अंकुश लगाने की मांग की है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ