कब बनेगी शिवना पुलिया: कभी भी टूट सकती हैं बड़ी पुलिया, नहीं दे रहा प्रशासन ध्यान




मंदसौर शमशान के पास शिवना नदी पर बनी पुलिया पूरी तरीके से खस्ताहाल हो चुकी है। नहीं पुलिया स्वीकृत होने एवं निर्माण की समय सीमा खत्म होने के बाद भी काम नहीं हो पा रहा है। ऐसी स्थिति में इस खंडहर पुलिया पर ही सारे वाहनों का भार बना हुआ है। इस पुलिया को नीचे से देखें तो कई जगहों पर तड़के चल चुकी है। इस समस्या का समाधान करने के लिए यातायात पुलिस ने मुक्तिधाम के पास छोटी एवं वर्तमान पुलिया को वन वे बना दिया है। हालांकि यह समस्या का कोई स्थाई समाधान नहीं है। प्रशासन को जल्द ही पुलिया निर्माण पर ध्यान देना चाहिए और जल्द से जल्द निर्माण कार्य शुरू करना चाहिए।



48 साल पहले बनाई गई थी शिवना पुलिया



मुक्तिधाम के पास बनी शिवना पुलिया आज से 48 साल पहले बनाई गई थी। इसकी समय सीमा कब की समाप्त हो चुकी है लेकिन अभी तक नए ब्रिज का निर्माण शुरू नहीं हो पाया है। निर्माण के बाद से अभी तक किसी ने भी ब्रिज की सुध नहीं ली है। बिज की जर्जर स्थिति को देखते हुए शासन ने छोटी पुलिया और बड़ी पुलिया के बीच नई पुलिया बनाने के लिए राशि स्वीकृत की थी। इसके निर्माण की समय सीमा खत्म हो गई लेकिन फिर भी काम अब तक नहीं हो पाया है। ऐसे में अब बारिश थमने के बाद यातायात पुलिस ने बड़ी पुलिया से यातायात दबाव कम करने के लिए वनवे व्यवस्था लागू कर दी है। मंदसौर से रतलाम जाने वाले वाहन छोटी पुलिया से होकर जाएंगे। रतलाम से मंदसौर में आने वाले वाहन बड़ी पुलिया पर होकर आएंगे।




भ्रष्टाचार से ठेकेदारी हावी, स्थाई समाधान पर नहीं किसी का ध्यान 


कांग्रेस नेता और पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष हनीफ सेफ ने कहां की अधिकारी ठेकेदारों से समय पर काम नहीं करवा पा रहे हैंऔर नाही ठेकेदारों के खिलाफ कोई कार्यवाही कर रहे हैं। इससे साफ पता चल रहा है कि अधिकारियों और ठेकेदार के बीच कुछ ना कुछ गड़बड़ जरूर हुई होगी। फिलहाल यह स्थिति हो गई है कि शिवना की छोटी और बड़ी दोनों पुलिया खराब हो चुकी है। वन वे कोई स्थाई समाधान नहीं है। छोटी पुलिया पर कोई लाइट व्यवस्था भी नहीं की गई है ऐसे में रात को असंतुलित होकर अगर कोई दुर्घटना हो जाती है तो उसके लिए जिम्मेदार कौन रहेगा। अधिकारियों को जल्द से जल्द नई पुलिया निर्माण पर ध्यान देना चाहिए।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ