मंदसौर के थोक व्यापारी सिर्फ 1500 किलों पटाखे ही रख सकेंगे, प्रशासन ने किया व्यापारियों की दुकानों का निरीक्षण


मंदसौर में पटाखा दुकानों पर सुरक्षा व्यवस्था देखने पहुंचे तहसीलदार 2021



दिवाली का पर्व आने वाला है और प्रशासन इस्को लेकर सख्ती में भी आ गया है। मंगलवार को पुलिस प्रशासन ने शहर के सभी पटाखा थोक व्यापारियों की दुकानों का निरीक्षण किया और व्यापारियों को पटाखों के संदर्भ में तर्क भी दिए। दीपावली पर्व के लिए कुछ ही दिन बचें है और दुकानदार अपनी दुकानों को पटाखों से सजाने में लग गए हैं। पर्व को लेकर रोजाना शहर में भीड़ बढ़ती जा रही है। शहर के बीच में दो बड़े थोक व्यापारियों की पटाखे की दुकानें है। ऐसे में पटाखों की दुकानों पर सुरक्षा व्यवस्था और पटाखों की मात्रा देखने के लिए तहसीलदार मुकेश ने पुलिस टीम के साथ शहर के सभी थोक व्यापारियों की दुकान पर पहुंचे।




प्रतिवर्ष होते हैं कई बड़े बड़े हादसे




प्रति वर्ष दीपावली के पर्व पर बड़े बड़े हादसे देखने को मिलते हैं और कई लोगों की जानें चली जाती है क्योंकि वहां अधिक मात्रा में बारूद और सुरक्षा व्यवस्था कम रखते हैं।इसीलिए इस वर्ष प्रशासन पहले से ही सभी थोक व्यापारियों की दुकानों पर जाकर सुरक्षा व्यवस्था देख रहा है और अधिक मात्रा में बारूद रखने से कार्यवाही करने की कह रहा है। तहसीलदार मुकेश सोनी ने बताया कि शहर के बीच में स्थित दो थोक व्यापारियों की पटाखे की दुकान है जहां पर पहुंचकर व्यापारियों को सुरक्षा व्यवस्था रखने और कम पटाखे रखने की अनुमति दी गई। प्रशासन ने व्यापारियों को चाइना के पटाखे रखने से बिल्कुल मना कर दिया।



1500 किलो पटाखे ही रख सकते हैं व्यापारी



शहर के बीच में गोदाम होने के कारण कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है इसलिए व्यापारियों को सिर्फ 1500 किलो पटाखे रखने की ही अनुमति दी गई है। तहसीलदार ने यह भी कहा है कि अगर इसके बावजूद भी किसी प्रकार की लापरवाही सामने आती है तो उस पर सख्त कार्यवाही की जाएगी। तहसीलदार ने बताया कि शहर के गोदामों में सुरक्षा व्यवस्था और नियमों के पालन की जांच की गई है और बाद में एक बार और जांच की जाएगी। इस दौरान किसी भी प्रकार की लापरवाही पाई गई तो सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी। तहसीलदार के साथ जांच करने में शहर कोतवाली के एसआई बापू सिंह बामनिया भी टीम में मौजूद थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ