विरोध: व्यापारियों ने नहीं की दाग वाले धनिये की नीलामी, किसानों ने किया हंगामा, 1 घंटे बंद रही नीलामी

 

कृषि उपज मंडी में व्यापारियों ने की निलामी बंद 2021



3 दिन पहले मंडी में कलेक्टर द्वारा व्यापारियों पर हल्की क्वालिटी का धनिया खरीदकर उसे सल्फर से चमका कर बाहर बेचने पर कार्यवाही की थी। प्रशासन द्वारा तीन ट्रैवल्स बसों में से बड़ी मात्रा में धनिया, कलौंजी व अजवाइन जब तक की गई थी। इसके बाद से व्यापारी सतर्क हो गए और उन्हें प्रशासन का डर सताने लगा। इसी डर का असर शनिवार को कृषि उपज मंडी में दिखाई दिया जिसमें व्यापारियों ने दाग लगे हुए धनिया को नीलाम करने से मना कर दिया और 1 घंटे तक नीलामी रोक दी। इस पर किसानों ने हंगामा खड़ा कर दिया। इस दौरान 1 घंटे तक नीलामी बंद रही और उसके बाद समझाइश के दौरान नीलामी दोबारा शुरू की गई।



व्यापारियों ने खरीद लिया अच्छी क्वालिटी का धनिया



किसान उपज मंडी में सुबह 11:00 बजे नीलामी शुरू हुई और व्यापारियों ने शुरुआत में 20 ढेर अच्छी क्वालिटी वाले धनिया के खरीद लिए। जिस धनिया पर दाग लगा हुआ था और थोड़ी हल्की क्वालिटी का था उसे व्यापारियों ने खरीदने से मना कर दिया और नीलामी रोक दी। किसानों ने इस पर हंगामा मचा दिया। करीब 1 घंटे तक विवाद चलता रहा और उसके बाद समझाइश हुई और दोबारा नीलामी शुरू की गई। व्यापारियों ने आक्रोश जताने के लिए खराब क्वालिटी के धनिए को नीलाम नहीं किया था हालांकि थोड़ी देर में दोबारा नीलामी शुरू कर दी गई।




सल्फर से धनिया चमका कर बसों में करते थे परिवहन



व्यापारियों द्वारा ट्रांसपोर्ट की जगह यात्री बसों में धनिया, अजवाइन और कलौंजी का परिवहन दूसरे राज्यों में किया जा रहा था। शिकायत मिलने पर कलेक्टर मयंक अग्रवाल ने चार विभागों के अधिकारियों की टीम गठित की और गुरुवार को बस स्टैंड पर पहुंच कर कार्यवाही की। इसमें दो बस में लोड की गई कलौंजी ,अजवाइन और धनिया की बोरियां रखी हुई थी। एक बस के गोदाम में रखा हुआ 20 क्विंटल धनिया भी जप्त कर लिया गया है। इनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए। इस कार्यवाही के दौरान व्यापारियों ने डर के कारण मंडी में खराब क्वालिटी का धनिया खरीदने से दूरी बना ली।




मंडी में नियम के अनुसार नीलामी बीच में नहीं रोक सकते हैं 



मंडी के नियम अनुसार कोई भी उपज की व्यापारी अचानक  निलामी बंद नहीं कर सकते हैं। इसके लिए नियमानुसार व्यापारियों को 48 घंटे पहले मंडी कमेटी एवं मंडी व्यापारी संघ को सूचना देनी होती है। ताकि वह किसानों को उपज नहीं लाने की सूचना दे सके। दलिया व्यापारियों ने शनिवार को अपनी अचानक नीलामी बंद कर दी जो कि एक प्रकार से गलत हुआ है। व्यापारियों ने कहा कि किसानों से माल खरीद कर हम गोदाम में सफाई करते हैं उसके बाद ही दूसरे व्यापारियों को भेज सकते हैं इसके बावजूद भी प्रशासन हमारे ऊपर कार्यवाही कर रहा है। इससे व्यापारियों में नाराजगी है और इसी कारण हम हल्का माल नहीं खरीद सकते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ