जिले में फिर से तेज बारिश का दौर शुरू, नदी नाले उफान पर, बाढ के हालात

 



बरसात के शुरुआती दिनों में तो जिले में बारिश ने कुछ आज ग्रुप नहीं बताया लेकिन फिलहाल जिले में तेज बारिश का दौर चल रहा है जिससे जिले के विभिन्न इलाकों में नदी नाले उफान पर आ गए हैं और बाढ़ के हालात बन रहे हैं। मंदसौर और नीमच जिले में शनिवार सुबह से ही तेज बारिश का दौर जारी रहा और दिन भर बारिश नहीं रुकी। ग्रामीण क्षेत्रों में इस वर्ष पहली बार ऐसी बारिश देखने को मिली थी जिसमें नदी नाले उफान पर आ गए हैं और रास्ते नदी बन गए हैं। लोग रस्सी की मदद से रास्ते पार कर रहे हैं और कई जगहों पर पानी पुलिया के ऊपर से निकल रहा है जिससे रास्ते बंद हो गए और लोगों को आवाजाही में परेशानी हो रही है।



नीमच में बारिश का असर देखने को मिला



इस बारिश के दौर में नीमच जिला आगे निकल गया है। नीमच जिले के कई बांधों और तालाबों में पानी की आवक अचानक बढ़ गई है। नीमच जिले के जयसिंह पुरा नाले पर पानी ऊपर से बहने लगा जिससे बस्ती में पानी भरने लगा। कई रास्तों पर आवागमन बंद कर दिया गया। शुक्रवार को भी बारिश इतनी तेज हुई कि जिले के नदी और नाले उफान पर आ गए। बारिश का दौर शनिवार सुबह से ही जारी रहा इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि जल स्त्रोतों का भूजल स्तर और भी बढ़ सकता है। जिले के कुछ बांध पूरी तरीके से भर चुके हैं। नीमच जिले में सबसे अधिक बारिश मनासा क्षेत्र में हुई है।



किसानों की फसलें पानी में तैरती दिखी



अभी सोयाबीन की फसल कई गांवों में पक चुकी है और कुछ ही दिनों में काटने की स्थिति पर आ जाएगी। इस तेज बारिश के कारण किसानों की फसलों पर भी असर पड़ा है और जिन इलाकों में सोयाबीन की फसल काटने जैसी हो गई थी वह खेतों में पानी भर जाने के कारण तैरती हुई दिख रही है। इससे किसानों की चिंता बढ़ गई है। नीमच जिले के अधिकतर गांव में सोयाबीन की फसल पकने लगी है और कुछ दिनों में कट भी जाएंगी लेकिन तेज बारिश ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। हालांकि मंदसौर जिले के आस पास वाले गांव में सोयाबीन की फसल की बोवनी देरी से हुई थी जिसमें यहां ज्यादा खतरा नहीं है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि चार-पांच दिन और बारिश का दौर जारी रह सकता है क्योंकि सिस्टम मंदसौर और नीमच जिले के ऊपर से होकर ग्वालियर की तरफ जा रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ