शिवना में सफाई नहीं और बना रहे हैं नए-नए घाट, पानी साफ करने पर नहीं दे रहे ध्यान

 मंदसौर पशुपतिनाथ मंदिर 



मंदसौर पशुपतिनाथ मंदिर पर बड़ी पुलिया से लेकर छोटी पुलिया तक घाट बनाएं जा रहें हैं लेकिन शिवना की सफाई पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। हर वर्ष सरकार की तरफ से पैसे आ जाते हैं लेकिन नगरपालिका और मंदसौर प्रशासन शिवना साफ करने के लिए कोई उपाय नहीं कर पा रहा है। वहीं दूसरी ओर पशुपतिनाथ मंदिर समिति नदी के किनारे घाट बनाने के लिए पैसे खर्च कर रही है लेकिन उसके लिए पानी साफ होना भी जरूरी है लेकिन अभी तक कोई प्लान नजर नहीं आ रहा है। अभी नदी पर घाट बनाने का कोई फायदा नहीं है क्योंकि जब तक नदी का पानी साफ नहीं होगा तब तक घाट का कुछ महत्व नहीं आएगा।




साल में 8 महिने नदी का पानी गंदा ही रहता है



एक साल में 8 महिनों तक नदी का पानी गंदा ही रहता है। ऐसे में अगर मंदिर समिति नदी किनारे घाट भी बना रहीं हैं तो भी भक्त इतने गंदे पानी में स्नान तो क्या आचमन भी नहीं करेंगे। इसके बावजूद भी मंदिर समिति बड़ी पुलिया से लेकर छोटी पुलिया तक घाट बना रहीं हैं। पशुपतिनाथ मंदिर के पास ही बन रहा सहस्त्र शिवलिंग मंदिर का कार्य भी काफी धीमी गति से चल रहा है।इस मंदिर को भी 10 माह में बनकर तैयार होना था लेकिन 36 महिने गुजरने के बाद भी इसका काम आधा ही पूरा हो पाया है।




नदी का पानी नहाने लायक नहीं, समिति घाट बनाने में कर रहीं पैसा खर्च



अभी पशुपतिनाथ मंदिर की पुरानी दीवार को मजबूत करने के लिए पास में ही एक फीट की नई दीवार बनाई जा रही है। इसके बाद बची हुई जगह पर घाट बनाया जाएगा लेकिन कुछ लोग बोल रहे हैं कि नदी का पानी नहाने लायक भी नहीं रहता है फिर मंदिर समिति घाट बनाने पर पैसा क्यों खर्च कर रहीं हैं। अभी तक मंदिर में सहस्त्र शिवलिंग मंदिर समेत अन्य कार्य 60% ही पूरे हो पाए हैं। कार्य अभी तक धीमी गति से ही चल रहा है। यहां के ठेकेदार को भी मंदिर निर्माण का कोई अनुभव नहीं है। हालांकि कार्य हो रहा है।अब ठेकेदार ने दावा किया है कि जल्द ही मंदिर निर्माण के कार्य को पूरा कर दिया जाएगा।अब जल्द ही प्रशासन को नदी को स्वच्छ करने के लिए प्लान तैयार करना चाहिए।










एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ