मंदसौर: पुलिस की नाकाबंदी थी फिर भी डोडाचूरा छोड़ भाग निकले तस्कर, साफ झलक रही सांठगांठ

 

मंदसौर के तस्कर



मंदसौर जिले को तस्करों का शहर भी कहा जाता है क्योंकि यहां रोजाना एक ना एक तस्कर सामने आ ही जाता है। मंदसौर जिले में यह कोई नई बात नहीं है पहले भी कई बार तस्कर पुलिस के हाथों से भाग निकलते हैं लेकिन पुलिस कुछ नहीं कर पाती है। एनडीपीएस एक्ट के तहत यह कोई नई बात नहीं है। यहीं कारण है कि मंदसौर पुलिस ने आज तक किसी बड़े तस्कर पर हाथ नहीं डाला है। पुलिस हमेशा किसी छोटे तस्कर पर ही हाथ डालती है। वहीं पुलिस और तस्करों के बीच यह सांठगांठ की कहानियां कबसे चलती आ रही है इसलिए आज तक कोई बड़ा तस्कर पुलिस के हाथ नहीं लगा है ‌



बड़े तस्करों की पुलिस से होती है तालमेल



आज तक कोई बड़ा तस्कर हाथ नहीं लगा है और इससे साफ पता चलता है कि बड़े तस्करों की पुलिस और राजनीति में अच्छी पहचान रहती है और एक दूसरे से तालमेल बनी रहती है। पुलिस द्वारा बड़े तस्करों के प्रकरण कुछ ऐसे ही हिसाब से दर्ज किए जाते हैं जिससे आसानी से उनको राहत मिल जाती है। चलिए जानते हैं कुछ ऐसी ही एक रोचक कहानी।



सुबह के अंधेरे में भाग निकले तस्कर



मोटरसाइकिल पर दो बाइक सवार 60 किलो डोडा चूरा लेकर जा रहे थे। इसकी सूचना मुखबिर ने पुलिस को दे दी थी और पुलिस मौके पर जाकर खड़ी हो गई थी लेकिन डोडा चुरा ले जा रहे दोनों बाइक सवार पुलिस को दूर से देखकर ही भाग निकले जबकि सुबह के अंधेरे में दूर तक कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था। सिर्फ मुकबीर के बताने पर ही पुलिस ने मान लिया था कि बाइक पर दो लोग मौजूद थे।



शामगढ़ की यह घटना और भी मजेदार है



इस घटना को शामगढ़ के मामले को सुऋ बुढ़ा में 11 सितंबर की शाम एक गोदाम में हुई बैठक से जोड़कर देखा जा रहा है। वहां पर भी सीतामऊ क्षेत्र के अधिकारी बिना किसी फोर्स के गए थे और ना ही बूढ़ा चौकी पर खबर दी थी। उसी दिन सीतामऊ एसडीओपी को भी हाथ में चोट लगी थी जिसे वह पैर स्लीप होने पर लगना बता रहे हैं।



ठीक पांच दिन बाद हुआ एक और मामला



इस घटना के ठीक 5 दिन बाद पुलिस ने ग्राम किलगारी फंटा सरकारी कुएं के पास रोड़ पर नाकेबंदी की थी लेकिन पुलिस आरोपियों को पकड़ नहीं पाई। दोनों आरोपी बाइक पर सवार थे और पुलिस को देखकर दूर से ही भाग निकले। आरोपी दो ही थे और पुलिस वालों की संख्या अधिक थी लेकिन फिर भी आरोपी अंधेरे और कीचड़ का लाभ लेकर भाग गए। मोटरसाइकिल पर बंधे तीनों कट्टो में कुल 60 किलो डोडा चूरा निकला। इस मामले में पुलिस ने भैरू सिंह और लियाकत को आरोपी बनाया। सूत्र बता रहे हैं कि इन दोनों में से एक आरोपी बुड्ढा वाली घटना में भी मौजूद था जिससे पुलिस को चोट आई थी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ