खेतों में पककर फसल की फलियों में शुरू हो गया अंकुरण, सोयाबीन में होने लगा नुकसान शुरू

 



जिले में रुक-रुक कर मध्यम तेज बारिश का सिलसिला चल ही रहा है जबकि किसानों की फसलें कटने की कगार पर आ गई है। बुधवार को भी शहर सहित पूरे जिले में बारिश का दौर जारी रहा। पहले जब किसानों को बारिश की जरूरत थी तब पानी नहीं आ रहा था और जब बड़ी मशक्कत के बाद सोयाबीन की फसल तैयार हुई तो बारिश अब रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। बारिश इतनी हो रही है कि जिला सामान्य बारिश में आगे निकल गया। हालांकि पिछले वर्ष की तुलना में इस बार कम बारिश हुई है लेकिन सोयाबीन पकने के बाद भी रुकने का नाम नहीं ले रही है।



लगातार बारिश से कहीं खुशी, कहीं गम



जिले में हो रही लगातार बारिश के कारण कुछ किसान खुश हो रहे हैं तो कुछ को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।कुछ किसानों की चिंता बढ़ गई है क्योंकि उनकी फसले पक चुकी है और अब उन्हें काटने का समय आ चुका है लेकिन लगातार हो रही बारिश के कारण किसान फसल को  खेतों से बाहर नहीं निकाल पा रहे हैं। इस कारण किसानों की फसलें खेतों में ही सड़ने लगी है और कुछ किसानों की सोयाबीन दोबारा उगना शुरू हो गई है। जिन किसानों ने सोयाबीन देरी से उगाई थी उन्हें यह पानी अमृत समान लग रहा है लेकिन जिन किसानों की फसलें पक चुकी है उन्हें यह बारिश जहर समान लग रही है।



पानी से हो गई है जलसंकट की चिंता दूर



बारिश के शुरुआती दिनों में जल संकट की चिंता सता रही थी लेकिन इस बारिश ने लोगों की सारी चिंताएं दूर कर दी है। जिले के लगभग सभी जल स्त्रोत लबालब पानी से भर चुके हैं। अभी भी बारिश का सिलसिला चल नहीं रहा है और आज भी शहर में दोपहर तक तेज धूप निकली और फिर अचानक मौसम बना और तेज बारिश हो गई। मंदसौर जिले के लगभग सभी गांव में सोयाबीन की फसल पक चुकी है और और कुछ किसानों की सोयाबीन तो कटने लगी है। लेकिन बारिश के कारण किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।अब किसानों को खुले मौसम का इंतजार है ताकि जल्द से जल्द फसल को काटकर निकाला जा सके।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ