मंदसौर का अंकित पाटीदार ₹60000 लूट की रिपोर्ट लिखाने गया, 24 घंटे में खुद आरोपी बन गया

 Share market me pese dube Mandsaur 



मंदसौर जिले के अफजलपुर थाना क्षेत्र में एक बड़ा ही रोमांचक मामला सामने आया है। मामला शेयर बाजार में पैसे डूब जाने का है। अफजलपुर थाना क्षेत्र पर मंदसौर जिले के गांव सूठी का अंकित पाटीदार थाने में अपने पैसे लूटने की रिपोर्ट दर्ज करवाने गया और 24 घंटों में खुद ही आरोपी बन गया। अंकित पाटीदार ने पुलिस को रिपोर्ट लिखाई कि उसके 60 हजार रूपए की लूट हो गई है लेकिन इसके लिए वह पुलिस को किसी भी प्रकार का सबूत नहीं मिला तो पुलिस ने अंकित के बैंक अकाउंट की जानकारी मांगी।



बैंक अकाउंट से ही खुल गई लूट की पोल



जब पुलिस ने अंकित के बैंक अकाउंट की जानकारी ली तो उसी से पूरे मामले का खुलासा हो गया। बैंक अकाउंट से पता चला कि अंकित ने अपने 60 हजार रुपए शेयर मार्केट में लगा रखे थे और वह डूब चुके थे। अंकित को पैसों की चिंता होने लगी और उसने पुलिस थाने में जाकर अपने पैसों के लिए लूट की नई कहानी रच दी लेकिन इसमें वह सफल नहीं हो पाया और 24 घंटों के अंदर ही पुलिस ने उसे पकड़ लिया। अंकित ने पैसे डूब जाने की एक कहानी रची थी और पुलिस को सुनाई थी।अब पुलिस द्वारा अंकित को हिरासत में ले लिया गया है और अब उस पर उचित कार्यवाही भी की जाएगी।



अंकित ने क्या कहानी बनाई थी



एसपी सुनील कुमार पाण्डेय ने बताया कि सूठी निवासी अंकित पाटीदार पुत्र लक्ष्मीनारायण पाटीदार ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई कि वह 13 सितंबर को महाराणा प्रताप बस स्टैंड के पास स्थित आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम से ₹60000 निकाल कर ले गया अपनी बाइक के बैग में रख दिए। इसके बाद दलौदा आकर दिन भर मंडी में कार्य किया।जब वह डिगांव की तरफ जा रहा था तो रास्ते में दो बदमाशों ने मिलकर उसके पैसे लूट लिया और वहां से फरार हो गए। इसके बाद पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करके मामले की जांच शुरू की और 24 घंटों में ही अंकित की झूठी कहानी सामने आ गई।



अंकित ने बैग छिपा दिया था



जब बैंक अकाउंट की जानकारी सामने आई तो पुलिस ने अंकित से सख्ती से पुछताछ की और उसमें अंकित खुद की बातों को भी साबित नहीं कर पाया। पुलिस ने अंकित से ही पूरी बात उगलवाई। बैंक की रिपोर्ट में सामने आया कि अंकित ने शेयर मार्केट में पैसे लगा रखें थे और पुलिस को झुठी कहानी सुना दी। अंकित ने अपना बैग भी छिपा दिया था जिसे पुलिस ने पुछताछ के दौरान ले लिया। अंकित के केस को सुलझाने के लिए साइबर सेल को भी काम पर लगा दिया था। जब बारिकी से जांच की तो पता चला कि यह कहानी झुठी है। अब अंकित पर झुठी रिपोर्ट दर्ज करवाने पर कार्यवाही की जाएगी।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ