मंदसौर जिले में बारिश के साथ-साथ गिरी बिजली, बिजली गिरने से दो की हुई मौत

 

बिजली गिरने से 2 लोगों की मौत



किसानों की सोयाबीन पकने के बाद भी बारिश रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। जिले का मानसून लगातार सक्रिय होता जा रहा है। पहले जब जल के लिए लोग तरस रहे थे लेकिन अब हम मानसून के सक्रिय होने के कारण पूरा जिला जलमग्न हो गया है। जिले के हर गांव में पानी ही पानी दिखाई दे रहा है। पिछले तीन-चार दिनों से जिले वासियों की सुबह तो तेज धूप और खुले मौसम के साथ होती है लेकिन शाम होते ही झमाझम तेज बारिश होने लगती है। रोजाना दिन या रात में एक बार पानी आ ही जाता है।रविवार को भी दोपहर तक मौसम साफ रहा और फिर अचानक तेज बारिश हो गई।



बिजली गिरने से हुई 2 लोगों की मौत



शहर के आस पास वाले गांव में रविवार को भी इतनी तेज बारिश हुई कि एक ही घंटे में सारा क्षेत्र जलमग्न हो गया। बारिश के साथ साथ तेज बिजलियां भी गिरी जिसके कारण मंदसौर जिले के दो लोगों की मौत हो गई। जानकारी के अनुसार जानकारी के अनुसार गांव चिप्लाना में बिजली गिरने से एक किसान की मौत हो गई। उसके परिजन उसको जिला अस्पताल लेकर पहुंचे लेकिन किसान को बचा नहीं पाए। किसान का नाम ईश्वर लाल पिता दुलीचंद उम्र 35 वर्ष थी। वही नारायणगढ़ क्षेत्र के गांव हरसोल में बिजली गिरने से दीपक सोनगरा की मौत हो गई। दीपक खेत पर मजदूरी का कार्य करने गया था। बारिश होने के दौरान वह पेड़ के नीचे खड़ा हो गया और वहां पर बिजली गिर गई। मंदसौर जिले में एक ही दिन में बिजली गिरने से दो लोगों की मौत हो गई।



1 घंटे में जलमग्न हो गया पूरा क्षेत्र



मंदसौर शहर सहित आसपास के गांव में इतनी तेज बारिश हुई कि 1 घंटे में ही सभी और जल ही जल दिखने लगा। बारिश के कारण किसानों के चेहरे पर दुःख झलक रहा है। किसानों का कहना है कि अभी जो बारिश हो रही है उससे काफी नुकसान हो रहा है। किसानों ने कहा है कि सोयाबीन की फसल पककर तैयार हो चुकी है लेकिन उसे काटने का समय ही नहीं मिल रहा है क्योंकि रोजाना बारिश के कारण सभी खेतों में पानी भरा हुआ है। पहले ही किसानों की सोयाबीन में जड़ों में कीट लग गई थी और अब बची कुची पानी में सड़ रही है और दोबारा उगने लगी है। जो किसान सोयाबीन काट रहे हैं उन्हें कीचड़ में होकर सोयाबीन को सुखी जगह लाना पड़ रहा है। इस प्रकार रोजाना किसान पानी को देखकर उदास हो जाता है। सभी किसानों को सिर्फ मौसम के खुलने का इंतजार है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ