मानसून ने जिले को फिर किया तरबतर, सावन की झड़ी में लगातार हो रही बारिश, एक दिन बाद फिर सक्रिय हुआ मानसून, मौसम हुआ ठंडा

 



जिले में मानसून एक दिन खुला रहने के बाद फिर से सक्रिय हो गया है। हालांकि रिमझिम बारिश ही जिले में हो रही है लेकिन यह भी रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। बीती रात भी जिले में काफी तेज बारिश हुई। सावन की लगी झड़ी ने पानी की कमी को दूर कर दिया है।अब जिले के सभी जल स्त्रोत भी पूरी तरीके से पढ़ चुके हैं सिर्फ कुछ ही बचे हैं जो थोड़े समय में भर जाएंगे। कई दिनों से फसलें पानी का इंतजार कर रही थी उनकी भी पानी की जरूरत पूरी हो गई है। वहीं लगातार बारिश के कारण सभी और कीचड़ जमा हो गए हैं तो सड़कों पर गड्ढों का आलम ऐसा है कि गड्ढों के बीच सड़क ढुंढना पड़ रही है। बीती रात से ही रिमझिम बारिश का जिले में दौर जारी है। हालांकि गरोठ और भानपुरा क्षेत्र में अधिक बारिश हो रही है।

अब खुला रह सकता है मौसम

जानकारी के अनुसार सावन के शुरुआती 15 दिनों में पानी बताया गया था जो पूरे हो चुके हैं अब हरियाली अमावस्या के बाद आंकड़ों के अनुसार मौसम कुछ दिनों तक खुला रह सकता है। जिले में सबसे अधिक बारिश होने वाले गरोठ और भानपुरा में भी हरियाली अमावस्या को मौसम खुल गया था। हालांकि रात को आधे घंटे से बारिश हुई लेकिन आज फिर मौसम खुल गया है। जिले में अब तक औसत रूप से 22 इंच बारिश हो चुकी है। शुक्रवार को भी दिनभर जिले में रिमझिम बारिश का दौर जारी रहा। शुक्रवार सुबह 8:00 बजे तक पिछले 24 घंटों में मंदसौर जिले में 11 मिमी बारिश हुई। मंदसौर के अलावा सीतामऊ में बारिश में में और सुवासरा में 6 पॉइंट 2 मिमी बारिश हुई। इसी के साथ मंदसौर जिले में अच्छी बारिश होने के बाद गांधी सागर बांध का जलस्तर 1297.31 दर्ज किया गया है।

जल स्रोतों में बढ रहा पानी, कई जगह खोले जा रहे हैं गेट

सभी तरफ लगातार हो रही बारिश के चलते हैं अब जिले के जल स्त्रोतों में भी पानी का स्तर बढ़ता जा रहा है। कई गेट खोले जा रहे हैं तो कई स्थानों पर पानी छलक ने लगा है। शिवना सहित चंबल में पानी बढ़ रहा है। तो गांधी सागर में भी पानी की आवक हो रही है। वही भूमिगत जल स्त्रोतों में भी पानी का स्तर लगातार बढ़ रहा है। हालांकि लगातार हो रही बारिश और खेतों से भरे पानी को लेकर अब किसान फसलों को लेकर चिंता में हैं। किसानों का कहना है कि कुछ दिन पानी से राहत मिलनी चाहिए। खेतों में कई दिनों से पानी भरा है इसलिए फसलें पीली पड़ने लगी है और अब फसलों को धूप की जरूरत है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ