मंदसौर: धंस रही है शहर किले की मिट्टी, लगातार बारिश से हरकत में आया प्रशासन, रात में मौके पर पहुंचे अधिकारी

 



वर्ष 2019 की बारिश में प्राचीन शहर की किले की मिट्टी धंसने लगी थी। अब फिर लगातार बारिश हुई तो प्रशासन हरकत में आ गया है और किले पर रहने वाले लोगों की सुध ली गई। रात के अंधेरे में बारिश के बीच नगरपालिका के अफसर अमले को लेकर पहुंचे तो एसडीएम तहसीलदार भी यहां पर पहुंचे। मिट्टी बारिश के साथ साथ धंस रही है और इसी के चलते अब तकनीकी अधिकारियों को यहां रहने वाले लोगों के हर एक मकान तक पहुंचकर सर्वे करने से लेकर निगरानी रखने का काम किया जा रहा है। जिन लोगों के मकान बिल्कुल किनारे पर है उन्हें नोटिस देकर खाली करवाया जा रहा है और दूसरे स्थान पर शिफ्ट किया जा रहा है।



रात को नगरपालिका तो दोपहर में पहुंचा प्रशासन



प्रशासन के हरकत में आने के बाद यहां अफसर भी पहुंच रहे हैं। जबकि इस मामले में पूर्व में विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया भी इस मामले को उठा चुके हैं। शहर सहित जिले में लगातार हो रही बारिश के बीच 2 साल पहले आई बाढ़ के दौरान इस टीले की मिट्टी धंस गई थी। उसी समय कलेक्टर के निर्देश पर रात के अंधेरे में बारिश के बीच नगर पालिका सीएमओ अपनी टीम को लेकर वहां पहुंचे। यहां लोगों से मिले और सावधानी की नसीहत दी। इसके बाद बुधवार को यहां सर्वे के लिए तकनीकी अधिकारी को आदेशित किया गया। इधर बुधवार को दोपहर में एसडीएम व तहसीलदार ने अमले के साथ पहुंचकर क्षेत्र का निरीक्षण किया यहां स्थित प्राचीन गेट के ऊपर ही लोगों ने मकान बना दिया तो यहां अतिक्रमण भी पाया गया। यहां मिट्टी के भूस्खलन की आशंका के चलते 2 दिनों से प्रशासन हरकत में आ गया है।



प्रशासन ने सर्वे करना शुरू कर दिया है



आज से 2 साल पहले भी बाढ़ के कारण इस क्षेत्र में मिट्टी धंसी थी। बारिश के दिनों में मिट्टी का कटाव होता है ऐसे में नापा सहित राजस्व अधिकारियों को इसके लिए निर्देशित किया गया है। एसडीएम बिहारी सिंह तहसीलदार मुकेश सोनी ने बताया कि मौके पर पहुंचकर निरीक्षण किया गया है। इस दौरान उन्होंने शहर की ला और इस क्षेत्र में टीले पर स्थित मकान का भी निरीक्षण किया। नगर पालिका सीएमओ सुमन ने बताया कि कलेक्टर के निर्देश पर रात में बारिश के बीच अपनी टीम को लेकर शहर कीला छेत्र पहुंचे थे। अब यहां पर किनारे पर रहने वाले लोगों को हटाना जरूरी है और इसके लिए आदेश जारी किया जाएगा और लोगों को दूसरे स्थान पर शिफ्ट किया जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ