Positive Story/कामयाबी की कहानी: लौह इरादे वाले संदीप बंजर जमीन से कर रहे हैं करोड़ों की कमाई, जानिए इनकी पूरी कहानी

 Successive Positive Story



यदि आपके इरादों में इस्पात सी मजबूती हो तो, आपके मुश्किल कार्य भी आसान हो जाते हैं। इसके लिए बस आपके पास कार्य को करने का जुनून होना चाहिए। आपको हमेशा success होने के लिए positive thinking रखना बहुत जरूरी है और कार्य के प्रति जुनून होना भी जरूरी है। इसी बात को साबित किया है मंडला जिले के गांव सिंगार पूरा के युवा संदीप लोहान ने जो कि एक उन्नत किसान है। इन्होंने आज से 12 वर्ष पहले डेढ़ सौ एकड़ बंजर और उबड़ खाबड़ जमीन को समतल करके उस पर फसल उगाने का फैसला किया था। इस दौरान कई लोगों ने मना भी किया यहां तक की कृषि वैज्ञानिक भी मना कर रहे थे लेकिन संदीप ने अपने इरादों से हार नहीं मानी और उस पर परिश्रम करना शुरू कर दिया।

आज संदीप 500 लोगों को रोजगार देकर करोड़ों की कमाई कर रहे हैं

उस समय लोगों की बात नहीं मान कर अपने इरादों पर चलने वाले संदीप आज उसी बंजर भूमि से करोड़ों की कमाई कर रहे हैं और साथ ही 500 से अधिक लोगों को रोजगार देने के साथ-साथ टमाटर, हरी मिर्च और शिमला मिर्च को विदेशों में भेज रहे हैं। उन्नत किसान संदीप का कहना है कि उन्होंने हरी मिर्च, टमाटर और शिमला मिर्च के अलावा 2017 में सेब के 26 पेड़ भी लगाए थे जिनमें 2019-20 में थोड़े से फल ही आए थे लेकिन उन्होंने मेहनत करना नहीं छोड़ी और अगले ही वर्ष 2021 में एक पेड़ पर करीब 300-400 फल लगे।

शुरुआती वर्षों में कम उत्पादन होने पर हार नहीं मानी

कृषक संदीप ने कहा कि उन्होंने जब बंजर भूमि पर सब्जियां लगाई थी तो शुरुआती वर्षों में बिल्कुल कम उत्पादन हुआ था लेकिन उन्होंने हार नहीं मान कर मेहनत करना जारी रखा और उनकी मेहनत का Result आज हमें देखने को मिल रहा है। फार्महाउस की पथरीली जमीन पर अब टमाटर 80-100 टन प्रति एकड़, शिमला मिर्च 70 टन प्रति एकड़, हरी मिर्च 40 टन प्रति एकड़, करेला 15 टन प्रति एकड़ और लौकी 40 टन प्रति एकड़ उत्पादन हो रही है। इसके अलावा कृषक संदीप ने अपने बगीचे में नींबू, एलोवेरा आदि भी लगाए हैं। पोली हाउस की नर्सरी में खुद ही पौधे भी तैयार करते हैं। संदीप ने गत दिनों बिना मल्चिंग के पथरीली जमीन पर बैंगन भी लगाए हैं अब देखना है कि यह प्रयोग कितना सफल होता है।

संदीप ने तकनीकी को अपनाकर बनाया है खेती को उन्नत



संदीप की यह Success अब मंडला जिले में ही नहीं बल्कि संदीप के Form House की कामयाबी को देखने के लिए प्रदेश के दमोह, हरदा,सागर जैसे जिलों के कई किसान, NGO और सरकारी संगठन आकर खेती की तकनीकी जानते हैं और सलाह लेते हैं।

इजराइल की तकनीकी से अपनी खेती को उन्नत बनाया है

किसान संदीप लोहान ने अपनी खेती में Israel agriculture technique को अपनाकर और वहां जाकर   खेती सीखकर यहां अपनाकर अपनी खेती को उन्नत बनाया है। इन्होंने अपने फार्म हाउस पर 500 से अधिक लोगों को रोजगार दिया है। इससे मजदूरों को तो खुशी मिलती ही है साथ ही साथ संदीप को भी आत्मिक खुशी मिलती है।

मशीनों द्वारा की जाती है पौधों की निगरानी

किसान संदीप लोहान ने बताया कि Form House में पौधों को पोषक तत्वों और पानी की जरुरत की निगरानी मशीनों द्वारा की जाती है। यहां की हरी मिर्च, टमाटर और शिमला मिर्च देश विदेश में बिकती है। विशेष किस्म की लाल मिर्च की मांग African देशों में खूब है।खास बात यह है कि इस विशेष लाल मिर्च का उत्पादन देश के कुछ हिस्सों में ही होता है जिसमें मंडला भी शामिल है। विशेषतः उद्यानिकी फसलों से करोड़ों की कमाई करने वाले संदीप के खाते में लोगों की दुआएं भी बहुत जमा हुई है।

लॉकडाउन में जरूरतमंदों को निशुल्क सब्जियां भी दी है



किसान संदीप ने सिर्फ पैसे के लिए यह खेती नहीं की है बल्कि इन्होंने कोरोना महामारी में लोक डाउन के दौरान मंडला और डिंडोरी जिले के 5000 जरूरतमंद परिवार को रोजाना मुक्त सब्जी देकर मानवता की मिसाल पेश की है। सब्जियों की चौड़ाई का पैसा भी इन्होंने खुद ही वहन किया है।सभी ने इनकी सराहना भी की है। आपको भी ऐसे कामयाब किसान से प्रेरित होना चाहिए और सिख लेनी चाहिए। खासतौर पर उन किसानों को सीख लेनी चाहिए जो अपनी बंजर और पथरिली ज़मीन से निराश है।उनके सामने उन्होंने विकास की नई इबारत लिखी है। इसलिए किसी भी कार्य को करे तो उसे पूरे जुनून के साथ करें आपको देरी से सही मगर सफलता अवश्य मिलेगी।



एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ