मंदसौर में लागू होगा बिजली कंपनी का पायलट प्रोजेक्ट, युवाओं को रोजगार से जोड़कर बनाएगा आत्मनिर्भर, उपभोक्ताओं को होगी समय की बचत

 



पश्चिमी क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के 15 जिलों में मंदसौर जिले में विभाग बिजली मित्र संग्रहण सेवा को पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू करने जा रहा है। विभाग का यह नया प्रोजेक्ट युवाओं को रोजगार से जोड़ कर आत्मनिर्भर बनाएगा और साथ ही कंपनी की राजस्व वृद्धि होगी और उपभोक्ता को समय की बचत के साथ-साथ घर बैठे बिल जमा करने की सुविधा भी मिलेगी। इसमें विभाग के बाहरी व्यक्ति को जोड़ा जाएगा। पंजीयन के बाद कंपनी उसे थर्मल प्रिंटर जारी करेगी और अपने मोबाइल से जोड़कर घरों तक पहुंचकर उपभोक्ता के बिजली के बिल जमा करेंगे।



उपभोक्ता कर सकेंगे घर बैठे बिजली बिल जमा




बिजली विभाग के इस पायलट प्रोजेक्ट में प्रतिबल के मान से यह काम करने वाले को राशि मिलेगी और इससे कंपनी को राजस्व वसूली में वृद्धि होगी तो उपभोक्ता घर बैठे ही बिजली बिल जमा कर सकेंगे। जिले में यह प्रोजेक्ट लागू होने के बाद समय की बचत होगी और नए युवाओं को रोजगार भी मिलेगा। प्रारंभिक चरण में इस प्रोजेक्ट में 100 थर्मल प्रिंटर के माध्यम से इसे जिले में लागू किया जा रहा है, लेकिन परिणाम के बाद इसे पंचायत स्तर पर लागू करने की योजना भी बनाई गई है।



यह योजना किस प्रकार से काम करेगी




विद्युत वितरण कंपनी पश्चिम क्षेत्र में 15 जिले हैं तो संभाग में 8 जिले हैं। इसमें मंदसौर जिले में यह नवाचार हो रहा है। बिजली मित्र संग्रहण सेवा की इस योजना में जुड़ने वाले युवकों एमपी ऑनलाइन किओस्क पर रजिस्ट्रेशन करवाना होगा और डिजिटल से जुड़ना होगा। इन दोनों में उसे 1300 रूपए व्यय करने पड़ेंगे। इसके बाद कंपनी उसे थर्मल प्रिंटर लाइब्रेरी से अधिकृत को जारी करेगी। मोबाइल से इसे छोड़ कर वह घरों तक पहुंच कर उपभोक्ता का बिजली बिल जमा कर सकेगा। इसके एवज में उसे ₹4 प्रति बिल के मिलेंगे। प्रारंभिक चरण में 100 थर्मल प्रिंटर के माध्यम से 100 लोगों को जोड़कर कंपनी इस योजना को लागू करेगी। इसके बाद पंचायत स्तर तक इसे बढ़ाया जाएगा तो यहां इसके परिणाम देखने के बाद अन्य जिले में भी यह योजना अपनाई जाएगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ