आने से पहले ही तीसरी लहर को हरा देगा मंदसौर, बदलती नजर आ रही अस्पतालों की सुरत, हर स्तर की तैयारी का दावा, अस्पतालों और उपचार सेंटरों पर मुस्तैद व्यवस्था

 



तीसरी लहर आने की आशंका में मंदसौर जिले के अस्पतालों और उपचार केंद्रों पर काफी तेजी से तैयारियां चल रही है। तीसरी लहर आने की आशंका जताई गई है। अबकी बार स्वास्थ्य विभाग तीसरी लहर को आने से पहले ही हरा देने की तैयारियां कर रहा है। आक्सीजन ,बेड और अन्य आवश्यक सुविधाएं अस्पतालों में तैनात की जा रही है अस्पतालों के अलावा कोरोना से उपचार के लिए बनाए गए स्थाई कोविड-19 सेंटर पर भी बेड, उपचार और अन्य आवश्यक तैयारियां तेजी से चल रही है। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान जिन जिन अस्पतालों में मरीजों का इलाज हुआ था उसके बाद अब तीसरी लहर से लड़ने के लिए सभी अस्पतालों का रूप रंग बदला जा रहा है।



6 अस्पतालों में हो चुकी है ऑक्सीजन की व्यवस्था 



सरकारी अस्पताल सहित जिले के छह अस्पतालों में आक्सीजन की व्यवस्था हो चुकी है। दूसरी लहर में जिन सेंटरों पर मरीजों का उपचार किया गया था वहां पर भी अब बेड और अन्य प्रकार की सभी व्यवस्थाएं तैनात की जा रही है। दूसरी लहर में ऑक्सीजन और बेड की कमी ही सबसे ज्यादा हुई थी इसलिए प्रशासन अब पहले से इनकी तैयारी कर रहा है। जिला अस्पताल के सभी वार्ड तैयार हो चुके हैं। अस्पताल के सभी बेड पर ऑक्सीजन और दवाइयां उपलब्ध की जाएगी और उनके लिए अलग से स्टाफ भी रखा जाएगा। दूसरी लहर के दौरान स्वास्थ्य व्यवस्था है काफी प्रभावित हुई थी इसी को ध्यान में रखते हुए तीसरी लहर में स्वास्थ्य व्यवस्था प्रभावित नहीं हो इसलिए प्रशासन पहले से तैयारी कर रहा है।




जिला अस्पताल में बन रहा है बच्चों के लिए आईसीयू वार्ड



कोरोना की तीसरी लहर के बीच यहां संभावना जताई जा रही है कि तीसरी लहर बच्चों के लिए घातक हो सकती है। इसी को ध्यान में रखते हुए जिला अस्पताल में बच्चों के इलाज के लिए बेहतर व्यवस्था तैनात की जा रही है। जिला अस्पताल में बच्चों के लिए 18 वर्ड का आईसीयू वार्ड बनाया जा रहा है। अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही यह वार्ड में तैयार हो जाए उसके बाद बच्चों के लिए अच्छी व्यवस्था शुरू हो जाएगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ