जनाब! Internet पर Free में कुछ नहीं, मिलता है धोखा और वायरस, अगर आप तो भी Mobile का उपयोग करते हैं तो जान लीजिए पूरी खबर

 यदि आप इंटरनेट (Internet) का उपयोग करते हैं तो इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें।



Internet का दुनिया में आने से लोगों का हर काम सरल हो गया है। आजकल हर व्यक्ति के पास मोबाइल फोन और Internet आसानी से उपलब्ध है लेकिन उनको यह पता नहीं है कि उनके हाथ में चल रहा मोबाइल कितना खतरों से भरा हुआ है। आजकल Internet पर सभी के Mobile में offers आते हैं और हमें पैसों की लालच दी जाती है और हम चक्कर में आकर हमारा ही नुकसान कर बैठते हैं। इसलिए हम आज आपको Internet से जुड़े कुछ ऐसे मामले बताने वाले हैं जिसमें इंसान लालच में आकर अपनी लाखों की संपत्ति खो चुके हैं। Internet पर कुछ भी मुफ्त में नहीं मिलता और अगर मिलता भी है तो सिर्फ धोखा और वायरस मिलता है। चलिए जानते हैं इसके बारे में सब कुछ।

INTERNET के बारे में एक्सपर्ट का क्या कहना है



एक्सपर्ट का कहना है कि जरा सी असावधानी आप को नुकसान पहुंचा सकती है। आपको नेटिकेट होना बहुत जरूरी है। इसका अर्थ है कि Internet पर आप का व्यवहार कैसा होना चाहिए। साइबर  एक्सपर्ट जितेंद्र सिंह कहते हैं कि इंटरनेट चलाते समय कई बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है वरना एक छोटा सा Click भी आपकी संपत्ति आपसे छीन सकता है। Mobile फोन पर अक्सर ऑफर के नाम पर लिंक message आते हैं और उसी ऑफर के चक्कर में इन्हें Click कर दिया जाता है और आखिरी में आकर मिलता कुछ नहीं है। इसी कारण आपके Mobile और Laptop में वायरस जरूर आ जाएगा और आप धोखे के शिकार हो जाएंगे। इसलिए कभी भी ऐसी link को या message का भरोसा नहीं करें वरना आपका Account चुटकी में खाली हो सकता है।

Internet ने बनाया है मनुष्य जीवन सरल ( Internet make life easy)



आज के जमाने में Internet को एक सच्चा दोस्त माना जाता है क्योंकि Internet हमें कुछ ही समय में सभी चीजों की सही जानकारी प्रदान कर देता है लेकिन यह सच्चा दोस्त कभी-कभी हमें धोखा दे जाता है क्योंकि इंटरनेट पर भी कुछ लोग ऐसे होते हैं जो आप को लालच देकर आपका सारा पैसा छीन लेते हैं। इंटरनेट को पैसा कमाने का सबसे सरल तरीका माना जाता है लेकिन सिर्फ दिमाग से इसे उपयोग करने वाला ही इसमें सफल होता है वरना जो व्यक्ति लालच में आकर अपने दस्तावेज( Document) शेयर करता है वह बाद में बहुत पछताता है। चलिए कुछ ऐसे ही मामलों पर नजर डालते हैं जेल में लोगों को मजबूरी थी या लालच लेकिन उनकी लाखों की संपत्ति बर्बाद हो गई।

Google पर Oxygen खरीदने के चक्कर में हुआ 75 लाख का नुकसान

घटना कोरोना महामारी के समय ऑक्सीजन की कमी होने के समय की है। भोपाल के एक कारोबारी को जब ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की कमी महसूस हुई तो उसने ऑक्सीजन के लिए इंटरनेट पर सर्च किया। इसी दौरान कारोबारी की एक व्यक्ति से बातचीत हुई और उस व्यक्ति ने तुरंत ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध कराने का झांसा दिया और उस व्यक्ति के झांसे में आकर कारोबारी ने 7500000 रुपए उस व्यक्ति के खाते में ट्रांसफर कर दिए और इस प्रकार ना तो ऑक्सीजन कंसंट्रेटर कारोबारी के पास आए और ना ही पैसा वापस आया।

सैनिटाइजर के चक्कर में 21 लाख का लगा फटका

कोरोना महामारी के दौरान व्यापारी पंकज जैन ने सेनीटाइजर का कारोबार करने के लिए इंटरनेट पर सर्च किया। इस दौरान उनकी भी एक एजेंट से बात हुई और एजेंट ने तुरंत सेनीटाइजर उपलब्ध कराने का झांसा दिया।वह डीलर बनकर व्यापारी से बात करता रहा और धीरे-धीरे व्यापारी से 21 लाख रुपए जमा कर लिए। व्यापारी को बाद में पता चला कि यह एक धोखा था।

कैसे करें झूठी सूचना ( Ford message) की पहचान

साइबर एक्सपर्ट शोभित चतुर्वेदी के मुताबिक इंटरनेट का इस्तेमाल करने वालों के लिए नेटिकेट की जानकारी होना जरूरी है। अनजाने में लोग मैसेज फॉर लिंक पर क्लिक करके porn site or Dating site पर चले जाते हैं और उसके बाद ब्लैकमेल होने लगते हैं। कई लोग तो शर्मिंदा होने के डर से लाखों रुपए गवा देते हैं लेकिन शिकायत नहीं करते हैं।

किन-किन बातों का रखना चाहिए ध्यान



1- अगर आप गूगल पर किसी चीज को सर्च करते हैं तो जो सामने आता है उस पर तुरंत विश्वास नहीं करें।

2- सर्च करने पर जो सामने आ रहा है, उसमें ऊपर की ओर चेक करें ग्रीन लॉक। अगर ग्रीन लोक होगी तो आपको कोई खतरा नहीं है।

3- सर्च रिजल्ट को देखें, यदि HTTPS आता है तो समझ लीजिए आप सुरक्षित है और अगर एचटीटी लिखा है तो समझ लीजिए आप किसी मुसीबत में आने वाले हैं।

4- अपराधी बैंक सरकारी एजेंसी से मिलती-जुलती वेबसाइट बनाते हैं और अपना नंबर डाल कर ठग लेते हैं।

5- लोन बीमा अभी सरकारी एजेंसी कभी भी आप के दस्तावेज ऑनलाइन नहीं लेते हैं। ऑनलाइन दस्तावेज और फीस मांगने वाले शंका के घेरे में रहते हैं।






एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ