मंदसौर में बढ़ रहा डेंगू का खतरा: सर्दी, खांसी और बुखार के बढ़ रहें मरीज, जुलाई में रोज 300 आ रहे थे और अब 600 पर पहुंच गए हैं

 


कोरोना पर काबू पाने के बाद अब डेंगू ने लोगों को डराना शुरू कर दिया है। मंदसौर के जिला अस्पताल में रोजाना सर्दी खांसी और बुखार के बहुत सारे मरीज सामने आ रहे हैं। ऐसी स्थिति बन गई है कि अगर 1 दिन भी अस्पताल बंद रह जाता है तो अस्पताल के बाहर मरीज इधर-उधर भटकने लगते हैं ऐसा ही शुक्रवार को देखने को मिला है जब ओपीडी में अवकाश था अस्पताल के बाहर मरीज इधर उधर भटकने लगे थे। जानकारी के अनुसार जुलाई में जितने डेंगू के मरीज सामने आ रहे थे उसके दुगने मरीज अब आ रहे हैं। कोरोना जैसी महामारी तो खत्म हो गई लेकिन जिले में सामान्य बीमारियां अपना प्रकोप बता रही है। पिछले महीने की तुलना में अब दोगुने मरीज जिला अस्पताल में आ रहे हैं




डेंगू में तेज बुखार आता है और हड्डियों में दर्द और जकड़न होता है



डाक्टर सौरभ मंडवारियि ने बताया कि फिलहाल वायरस और डेंगू का खतरा अधिक है। मच्छरों के काटने के बाद बुखार आ रहा है तो आप उसे डेंगू मानकर चलें। डेंगू में बुखार तेज आता है और आपकी हड्डियों में दर्द और जकड़न होती है। शरीर में रेशे होने लगते हैं और आपको भूख लगना कम हो जाती है। डेंगू होने पर आपको घबराहट महसूस होती है। डेंगू का बुखार 5 से 7 दिनों तक नहीं उतरता है। सामान्य वायरल में बुखार कम रहता है और हाथ पैर में दर्द नहीं होता। सामान्य बुखार दवाई देने पर 3 या 4 दिन में उतर जाता है। अगर इसके बावजूद भी आप को बुखार आता है तो लापरवाही नहीं बरतें और डॉक्टर के पास अवश्य जाएं।




किस प्रकार से आप रह सकते हैं स्वास्थ्य



वायरस को खत्म करने के लिए आलू बुखारा और चैरी जैसे फलो को खाएं। डेंगू में प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए पपीते का जूस दिया जाता है इसलिए पपीते का जूस पी सकते हैं।डेंगू के दौरान शरीर और इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है इसके लिए मरीज को सब्जियों का सूप दिया जाता है। गाजर का जूस भी डेंगू से लड़ने में आपकी सहायता कर सकता है। मरीज को डिहाइड्रेशन से बचाने के लिए ओआरएस का घोल दिया जाता है। खाने में हरी सब्जियां और उसका जूस पीने से भी आपको फायदा हो सकता है।संतरा, नींबू, पपीता और अमरूद का सलाद ले सकते हैं।तेलीय पदार्थों का सेवन कम करें और साफ रहे।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ