मंदसौर: बारिश आई और खोदने लगे सड़क, गांव वालों ने किया विरोध कहा- इतने दिनों से कहां थे, कार्य का विरोध कर रुकवाया गया काम

 



खबर मंदसौर शहर के बसेर कॉलोनी की है जहां पर लंबे समय से पानी की समस्या थी और उसके लिए काफी प्रयास चल रहा था। शहर में पीने के पानी की व्यवस्था सुधारने के लिए नगर पालिका ने दिसंबर 2020 में ही भाजपा के कार्यकाल में ही भाजपा नगर परिषद के समय ही टेंडर्स जारी कर दिया था और कार्य को शुरू करने की अनुमति भी मिल गई थी। इस कार्य के लिए ₹150000000 स्वीकृत किए गए थे और कार्य को भूमि पूजन करके शुरू भी कर दिया गया था। कार्यकर्ताओं ने इसमें से कुछ पैसे खा लिए और थोड़े दिनों तक चला काम बाद में कई दिनों से बंद पड़ा रहा। जब लोगों द्वारा शिकायतें दर्ज करवाई गई तब जाकर फिर से कार्य को शुरू किया गया।



बारिश के मौसम में करने लगे डामर की सड़कों की खुदाई



जैसे तैसे कार्य को शुरू किया गया तो गांव वालों ने इसे रुकवा दिया। मामला यह था कि अभी बारिश का मौसम आया और ठेकेदार हितेश वकाशिया ने सड़क खुदाई का कार्य शुरू कर दिया। ठेकेदार ने पानी की नई पाइप लाइन डालने के लिए बसेर कॉलोनी में डामर की सड़कों को खोजना शुरू कर दिया लेकिन यह वहां के रहवासियों को पसंद नहीं आया और उन्होंने इसका विरोध कर दिया। रहवासियों का कहना है कि पहले इतने समय से मौसम साफ था तब नगर पालिका ने कार्य शुरू नहीं किया और अब बारिश के मौसम में सड़के खोजने लगे हैं अगर पाइप लाइन डालने के बाद काफी महीनों तक सड़क सही नहीं हुई तो लोगों को समस्या होगी।



महिलाओं ने किया कार्य का अधिक विरोध



जैसे ही ठेकेदार ने सड़क खुदाई का कार्य शुरू किया तभी गांव वासियों और महिलाओं ने कार्य का विरोध किया और सड़क खुदाई के काम को वहीं पर रुकवा दिया। ठेकेदार ने समझाने का प्रयास किया लेकिन महिलाओं ने बात ठान ली तो वह किसी की नहीं सुन रही थी। महिलाओं का कहना था कि सड़क खोजने के बाद बारिश हो जाएगी और सड़क पर कीचड़ हो जाएगी जिससे हम को आने जाने में परेशानी होगी। नगरपालिका वाले रातों-रात सड़क सही नहीं करेंगे। सड़क मैं हो रहे गड्ढे से अगर कोई दुर्घटना हो गई और कीचड़ के कारण वाहन फिसल गया तो उसका जिम्मेदार कौन होगा।



महिलाओं के विरोध पर रोकना पड़ा कार्य



ठेकेदार के बहुत समझाने के बाद भी महिलाएं नहीं मानी और आखिरकार ठेकेदार और नगरपालिका को कार्य को रोकना ही पड़ा। महिलाओं का कहना है कि जब बारिश नहीं हो रही थी तब नगर पालिका सो रही थी और अब बारिश का मौसम आ गया है और लोगों के कार्य चलने लगे हैं तब इनकी नींद उड़ रही है। कार्य के ठेकेदार ने कहा कि इन लोगों को सड़क होने के बाद बाहर आने वाली मिट्टी से परेशानी है लेकिन मैं उस मिट्टी को सड़क से हटवा दूंगा उसके बाद इनको दिक्कत नहीं आएगी लेकिन महिलाएं मानने को तैयार ही नहीं है। फिलहाल कार्य को रोक दिया गया है अगर ग्रामवासी मान जाते हैं तो कार्य को जारी रखा जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ