मंदसौर: नगर पालिका शिवना में मिल रहे गंदे पानी के नाले को रोका जाए, या फिर की जाए वैकल्पिक व्यवस्था, पहले भी कई पैसे खर्च कर चुकी हैं सरकार: कोर्ट

 



मंदसौर में आप शिवना नदी के प्रदूषण को लेकर मामला कोर्ट में है, ऐसे कई मामले आते रहे हैं जिसमें कभी शिवना नदी की सफाई को लेकर मामला उठाया जाता है तो, कभी उसमें मिल रहे गंदे पानी के नालो को रोकने की बात कही जाती है।यह बात सही भी है इस बार जो जल संकट देखने को मिला है उसके बाद भी अगर शिवना में मिल रहे गंदे पानी के नालों को नहीं रोका गया तो स्थिति और ज्यादा बिगड़ सकती है, ऐसे में शहर की नगर पालिका द्वारा कोई खास कार्यवाही ना की जाना बड़ी ही शर्मिंदगी वाली बात है।


कोर्ट में शुरू हुई सुनवाई



जनप्रतिनिधियों की उदासीनता के कारण अब शिवना शुद्धिकरण के सदस्य अब कोर्ट के फैसले का इंतजार करें,

इससे पहले भी इन्होंने जल सत्याग्रह, जल उपवास, पोस्टर कार्ड आदि के माध्यम से जनप्रतिनिधियों की नींद उड़ाने का काम किया है पर जनप्रतिनिधियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी।अब स्थिति यह है कि मामला कोर्ट तक पहुंच गया है, मामले के कोर्ट में पहुंचते हैं सदस्यों द्वारा सफलता की एक सीडी चढ़ ली गई है।



न्यायाधीश ने लिया शिवना के पक्ष में फैसला


न्यायधीश द्वारा शिवना के पक्ष में फैसला सुनाते हुए नगर पालिका अधिकारियों को नदी में मिलते हुए नालों को रोकते हुए उनकी वैकल्पिक व्यवस्था करने के आदेश दिए हैं।

अब आगे की कार्यवाही के लिए 14 तारीख दी गई है जिसमें शिवना के अधिवक्तागण द्वारा अपना पक्ष रखा जाएगा।हरिवंश शर्मा, व सुनील बंसल, द्वारा बताया गया है कि अगली सुनवाई के लिए शिवना को लेकर नई रणनीति तैयार की जाएगी। कोर्ट के फैसले को लेकर शिवना भक्तों में खुशी का माहौल दिखाई दिया। अब जल्द ही रामघाट से लेकर मुक्तिधाम तक शिवना में मिल रहे नालों को रोका जाएगा।


फैसले के बाद भक्तों में दिख रहा अपार उत्साह

इस फैसले को लेकर भक्तों में जहां असीम उत्साह है, वही इनके संघर्ष को देखने की भी जरूरत है जिनके लिए इन्होंने जल सत्याग्रह, जल उपवास, पोस्टर कार्ड आदि के माध्यम से अधिकारियों तक अपनी बात पहुंचाने की कोशिश की है। इन्होंने अपनी बात पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री कार्यालय के दरवाजे तक खटखटाएं  हैं, पर इन्हें सफलता मिली है तो सिर्फ न्यायालय के दरवाजे पर ऐसे में अब कयास लगाए जा रहे हैं कि ऐसा ही अभियान चंबल नदी के लिए भी चलाया जाएगा जिससे कि चंबल नदी की शुद्धता पर भी काम किया जाए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Popular Posts

चुन्नु लाला पहुंचा मंदसौर: उदयपुर पुलिस गैंगस्टर को लेकर पहुंची मंदसौर, कोर्ट ने दिया 6 दिन का रिमांड, उदयपुर और मंदसौर पुलिस की कड़ी सुरक्षा में पेशी
मानसून लाने के लिए लोग अपनाने हैं अजीब प्रथाएं, अविवाहित स्त्री को नग्न करके खेत जोताया जाता है, जानिए लोगों की यह प्रथाएं वाकई में काम करती हैं,कब और क्यो शुरू हुई यह प्रथाएं
राहत की किरण: मंदसौर में सामूहिक दुष्कर्म के 5 आरोपियों को मौत तक कैद की सजा, नाबालिग छात्रा को खेत में ले जाकर किया था दुष्कर्म
एक और गड़बड़ी: सिर्फ 6 माह 13 दिन में धंसा 28 करोड़ के शामगढ़ ओवरब्रिज का एप्रोच रोड, रास्ता हुआ बंद, सेतु विकास के इंजीनियर और निगरानी कंपनी की देखरेख में बना ब्रिज
मंदसौर: शहर के मुक्तिधाम में राख और अस्थियों के साथ हो रही छेड़छाड़, कुछ असामाजिक तत्वों ने शमशान को बना दिया है शराब का अड्डा