जहरीली शराब से एक और मौत, राजस्थान से आ रही थी मंदसौर में जहरीली शराब, पुलिस ने कार्यवाही कर किया बड़ा खुलासा

 


मंदसौर में जहरीली शराब से होने वाली मौतों का आंकड़ा अभी रूका नहीं है चौथे दिन भी जहरीली शराब के कारण एक व्यक्ति की मौत हो गई। अभी तक इस मामले में 7 लोगों की मौत हो चुकी है। बुधवार को बही पार्श्वनाथ निवासी चौकीदार भगतराम पिता मांगीलाल मेघवाल ने उदयपुर में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। पुलिस ने गिरफ्तार पिंटू पिता महिपाल सिंह की निशानदेही पर सुजानपुरा निवासी जसपाल सिंह पिता कुशाल सिंह को गिरफ्तार किया है। पुलिसवाला दोनों को कोर्ट में पेश किया गया जहां पर कोर्ट ने उनको 30 जुलाई तक रिमांड पर सौंपा है।



राजस्थान से आती थी मंदसौर जिले में शराब



पुलिस ने फरार चल रहे आरोपियों महिपाल सिंह, गजेंद्र सिंह और जितेंद्र सिंह पर ₹10000 का इनाम घोषित किया है। यह बात भी सामने आई है कि मंदसौर जिले में बिकने वाली जहरीली शराब राजस्थान से आती थी। इससे पहले भी जलन के कारण लोगों की मौत हो चुकी है लेकिन अब की बार पुलिस ने सभी ढाबों पर छापा मारा है और कार्यवाही भी की है। पुलिस ने सभी शराब के ठिकानों को तोड़ दिया है। 23 जुलाई से जहरीली शराब के कारण मौत होने का आंकड़ा शुरू हुआ था। नाली खेड़ा सरपंच लक्ष्मी नारायण का कहना है कि यह एक षड्यंत्र है। इसका मुख्य कारण इस बार सरकार ने नए लोगों को ठेका दिया था वह हो सकता है।



ठेकेदार और पुलिस पकड़ चुकी है राजस्थान की शराब



मल्हारगढ़ थाना क्षेत्र में शराब का ठेका चला रहे मंगल चौहान ने बताया कि 20 जून को हमने उमरिया गांव में शराब पकड़ी थी। यह शराब कार से लाई गई थी जो राजस्थान से लाई गई थी। कार में बरखेड़ा जय सिंह निवासी मांगू सिंह राजेंद्र सिंह और सुजानपुरा निवासी जसपाल सिंह मौजूद थे। जसपाल सिंह ने ग्रामीणों को बुला लिया और भाग गया। सूचना पुलिस को दी गई लेकिन कार्यवाही अभी तक नहीं हुई। 24 जुलाई को शामगढ़ पुलिस ने बरखेड़ा उदा निवासी छत्रपाल सिंह के घर दबिश देकर 7 पेटी शराब और एक पेटी बीयर जब तक की थी। यह शराब भी राजस्थान से लाई गई थी।




मृतकों के परिजन से की चर्चा, ढाबों को भी तोड़ा



एसआईटी के ने मृतकों के परिवार वालों से जानकारी ली और कार्यवाही शुरू की। थाने में पहले दस्तावेज देखे गए उसके बाद हम खंखराई पुलिस की टीम पहुंची। टीम प्रमुख राजेश राजौरा अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक जीपी सिंह पुलिस महानिरीक्षक रेल एम एस सिकरवार थे। राजौरा ने बताया कि प्रभावित गांव का दौरा किया गया है। मध्यप्रदेश में राजस्थान बॉर्डर से जहरीली शराब आने की बात सामने आई है। जो दोषी होगा उस पर सख्त कार्यवाही की जाएगी। पुलिस ने अभी तक आठ डाबो को तोड़ दिया है जहां पर शराब की बिक्री हो रही थी। आगे की कार्यवाही की जा रही है और आरोपियों को गिरफ्तार किया जा रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ