एक और निर्भया: जिंदा जलाई गई बेटी आखिर हार गई जिंदगी, आरोपी ने युवती के घर के पास की थी अश्लीलता,अब हत्या की धारा जोड़ेगी पुलिस



कोरोना के चलते देश में एक बात अच्छी साबित हुई थी कि देश में होने वाले क्राइम की संख्या काफी कम हो गई थी। कोरोना के इस दौर में आपको रेप से संबंधित खबर काफी कम सुनने को मिली होगी लेकिन जैसे ही देश मे कोरोना खत्म हुआ कुछ बदमाशों ने फिर से बेटियों के साथ गलत व्यवहार करना शुरू कर दिया है। एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई हैं कि रीवा में छेड़छाड़ का विरोध करने वाली युवती को कुछ बदमाशों ने जिंदा जला दिया और युवती की शनिवार देर रात अस्पताल में ही मौत हो गई। 1 सप्ताह तक रिसते घावों से जीवन के लिए संघर्ष करती बेटी  को अपनी जिंदगी हारते देखकर उसका परिवार सदमे में डूब गया है।कुछ आरोपियों ने बेटी के साथ गलत व्यवहार किया और बेटी द्वारा विरोध करने पर उसे जिंदा जला दिया।



परिजनों ने आरोपी को फांसी देने की मांग की है



बेटी के परिजनों ने आरोपियों को नर पिशाच बताते हुए जल्द से जल्द उनको फांसी देने की मांग की है। जेल में बंद आरोपी आनंद पटेल पर अब पुलिस हत्या की धारा जोड़ेगी।यह घटना 4 जुलाई की है जो मनगवां थाना क्षेत्र के गंगेव चौकी के अंतर्गत निवासी आनंद पटेल नामक आरोपी ने युवती को देर शाम उस समय पकड़ लिया, जब युवती घर से बाहर निकल रही थी। आरोपी ने लड़की के साथ अश्लीलता की कोशिश की और लड़की ने उसका विरोध किया लेकिन पहले से ही क्रूर इरादे में आए आरोपी ने लड़की पर केरोसिन डालकर आग लगा दी।जब लड़की के शरीर पर आग लगी तो वह जोर-जोर से चीखने चिल्लाने लगी यह देखकर आरोपी ने लड़की का मुंह दबा दिया। आग की कुछ लपेटों से आरोपी भी झुलस गया है।



लड़की को खुद अस्पताल लेकर आया था आरोपी 



इस घटना के बारे में लड़की के परिवार वालों को अगले दिन पता चला था।वह रात को बेटी की तलाश कर रहे थे और इधर आरोपी आनंद पटेल ऑटो बुलाकर लड़की को झुलसी हालत में रीवा ले आया था। मेडिकल कॉलेज के संजय अस्पताल में उसी ने गलत सरनेम बता कर भर्ती कराया और वहां से भाग निकला।लड़की के परिवार वालों को आरोपी ने ही घटना के बारे में बताया था।तब लड़की के परिवार वालों ने गंगेव चौकी में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। उसके बाद पुलिस मामले की जांच में लग गई थी।



जैसा बेटी को दर्द मिला वैसा ही आरोपी को भी मिले



रविवार को पोस्टमार्टम की तैयारी के दौरान युवती के परिजन सदमे में डूबे हुए थे। एक सदस्य ने बताया कि अस्पताल में 7 दिन तक बेटी का तड़पना देख कर उसे रोना आ जाता था। उन्होंने कहा कि लड़की हमेशा करती रहती थी कि आप आनंद पटेल को कभी भी माफ मत करना। आनंद पटेल को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाना। जैसा दर्द उस बेटी को हुआ है वैसा ही आरोपी को भी होना चाहिए। प्रदेश महिला कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कविता पांडे ने घटना की निंदा करते हुए आरोपी को फांसी दिलाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि आरोपियों को सजा नहीं मिलने पर लोगों के हौसले बढ रहे हैं।रीवा जिला बेटियों के लिए असुरक्षित होता जा रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ