आखिर ये हो क्या रहा है, गुराडिया देदा और मुलतानपुरा मे बिजली बिल को लेकर साफ दिख रही है बिजली विभाग की लापरवाही,जानिए क्या हो रहा है यहां

 


प्रदेश के उज्जैन और इंदौर संभाग में बिजली विभाग पर आगे से काफी दबाव बनाया जा रहा है क्योंकि कोरोना के चलते प्रदेश के कई लोगों ने बिजली बिल नहीं चुकाया है जिससे विभाग पर भार बढ़ गया है। लोकडाउन तक विभाग ने सरकार के निर्देश पर लोगो से बिल वसुली नहीं की लेकिन अब अनलॉक होने के बाद विभाग ने सख्ती से बिल वसुली करना चालू कर दी है और बिजली वालें अब गांव गांव में घुमकर पैसे वसूल रहे हैं। बिल नहीं चुकाने पर वह लोगों को धमका भी रहे हैं कि पैसा नहीं दोगे तो बिजली काट दी जाएगी। हालांकि ऐसा करना गलत नहीं है क्योंकि आगे से विभाग पर भी बड़ा दबाव बनाया जा रहा है लेकिन अगर विभाग वसूली कर रहा है तो सभी गांवों से करना चाहिए लेकिन विभाग कुछ गांव में बिल्कुल कदम भी नहीं रख रहे हैं।


मंदसौर के मुल्तानपुरा में सालों से बिजली बिल बाकी है


खबर मंदसौर जिले के मुल्तानपुरा और गुराडिया देदा की बात है जहां पर आज गुराडिया देदा में बिजली वसूली वाले आए हैं और लोगों से बिजली बिल वसूली कर रहे हैं लोगों द्वारा पैसे नहीं देने पर वह बिजली काटने की धमकी भी दे रहे हैं। यहां पर लोगों के बिजली बिल ज्यादा बाकी नहीं है गांव के कुछ लोग ही होंगे जिनके बिजली बिल 1 महीने से ज्यादा बाकी होंगे लेकिन गांव से कुछ ही दूर स्थित मुल्तानपुरा गांव में बिजली विभाग वाले कदम रखने को तैयार नहीं है। गांव मुल्तानपुरा में कुछ महीने नहीं बल्कि कई सालों से बिजली बिल बाकी है लेकिन विभाग वहां जाकर बिल वसूली करने का नाम ही नहीं लेता है और ना ही कोई कार्यवाही करने को तैयार होता है। अगर आप मुल्तानपुरा में जाकर किसी भी बिजली खंभे को देख लेंगे तो आपका दिमाग काम करना बंद हो जाएगा क्योंकि वहां पर लोगों ने इतने कट डाल रखे हैं जितना आप सोच भी नहीं सकते और फिर भी बिजली विभाग कुछ नहीं बोल सकता है और दूसरे गांव में जाकर धमकियां देता है।


गांव वाले लोगों ने जताया बिजली विभाग वालों पर गुस्सा


यह कोई नई बात नहीं है बल्कि कब से ऐसा ही होता आ रहा है कि बिजली विभाग दूसरे गांव में जाकर तो अपनी ताकत बताते हैं और बात जब मैं मुल्तानपुरा की आती है तो चुप होकर बैठ जाते हैं और वहां जाने की हिम्मत ही नहीं करते लेकिन आज जब बिजली विभाग वाले गांव गुराडिया देदा में बिल वसूली के लिए आए तो लोगों ने उन पर तर्क दिए कि आप हर महीने हमारे पास बिल वसूली के लिए आ जाते हैं और मुल्तानपुरा में तो कई सालों से बिल बाकी पड़ा है वहां से बिल वसूली क्यों नहीं करतें हो? गांव वालों को एक और शिकायत है कि अगर हमारे गांव में एक भी व्यक्ति के यहां केबल कनेक्शन मिल जाता है तो आप उस पर जुर्माना लगाते हो लेकिन वहां मुल्तानपुरा में तो सरेआम सभी लोगों ने बीच रोड पर केबलें बिछा रखी है वहां कुछ क्यों नहीं करते हो? आज तक बिजली विभाग ने वहां पर कोई कार्यवाही करने की कोशिश क्यों नहीं की ? इन सभी सवालों के साथ गांव वालों ने बिजली विभाग वालों को और कहा कि पहले आप मुल्तानपुरा में जाकर पैसे लाओ फिर हम बिल देंगे। गांव वालों ने बोला कि अगर हमारी बिजली काट दी तो आगे बड़ी कार्यवाही की जाएगी।



मुल्तानपुरा में कुछ ही घरों पर मीटर लगे हुए हैं



अगर आप मुल्तानपुरा के आसपास रहने वाले होंगे तो आपको वहां के बारे में सब कुछ पता होगा लेकिन अगर आप मुल्तानपुरा गांव से वाकिफ नहीं है तो हम बताते हैं कि बिजली विभाग मुल्तानपुरा को लेकर इतना लापरवाह है कि  गांव के एक चौथाई घरों पर भी अभी तक मीटर नहीं लगे हैं और सब ने बिजली सीधे केबल से उपयोग में ले रखी है। ऐसा ही अगर किसी दूसरे गांव में होता तो बिजली विभाग वाले जुर्माना लगा देते हैं। मुल्तानपुरा गांव में अधिकतर मुसलमान ही रहते हैं इसी कारण यहां पर एक प्रकार का खौफ बना हुआ है लेकिन ऐसा नहीं होना चाहिए क्योंकि नियम तो सभी के लिए बराबर है उन पर भी जुर्माना और कार्यवाही होनी चाहिए। अगर आप भी इस बात से सहमत हो तो इस खबर को सभी जगह भेजिए ताकि बिजली विभाग वालों की आंखें खुले।


गुराडिया के समस्त किसानों का कहना है की अब से ऐसा बिलकुल नहीं होना चाहिए मुल्तानपुरा से भी बिजली बिल वसूली होनी चाहिए। समस्त ग्रामवासी गुराडिया देदा।



एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ

Popular Posts

चुन्नु लाला पहुंचा मंदसौर: उदयपुर पुलिस गैंगस्टर को लेकर पहुंची मंदसौर, कोर्ट ने दिया 6 दिन का रिमांड, उदयपुर और मंदसौर पुलिस की कड़ी सुरक्षा में पेशी
मानसून लाने के लिए लोग अपनाने हैं अजीब प्रथाएं, अविवाहित स्त्री को नग्न करके खेत जोताया जाता है, जानिए लोगों की यह प्रथाएं वाकई में काम करती हैं,कब और क्यो शुरू हुई यह प्रथाएं
राहत की किरण: मंदसौर में सामूहिक दुष्कर्म के 5 आरोपियों को मौत तक कैद की सजा, नाबालिग छात्रा को खेत में ले जाकर किया था दुष्कर्म
एक और गड़बड़ी: सिर्फ 6 माह 13 दिन में धंसा 28 करोड़ के शामगढ़ ओवरब्रिज का एप्रोच रोड, रास्ता हुआ बंद, सेतु विकास के इंजीनियर और निगरानी कंपनी की देखरेख में बना ब्रिज
मंदसौर: शहर के मुक्तिधाम में राख और अस्थियों के साथ हो रही छेड़छाड़, कुछ असामाजिक तत्वों ने शमशान को बना दिया है शराब का अड्डा