विद्यार्थियों के खिले चेहरे: हाई स्कूल परीक्षा परिणाम के बाद जिले के 16990 विद्यार्थी अगली कक्षा में पहुंच गए, परीक्षा परिणाम में स्वाध्याय विद्यार्थी रहे तृतीय श्रेणी में




माध्यमिक शिक्षा मंडल ने बुधवार की शाम को हाई स्कूल परीक्षाओं का परिणाम घोषित कर दिया। इस दौरान परीक्षाओं पर कोरोना का असर रहा था और परिणाम भी औसत नंबर के आधार पर दिए गए हैं। शत प्रतिशत परीक्षा परिणाम रहे हैं। जिले में 16 हजार 990 नियमित स्वाध्याय विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। थाना की स्वाध्याय के सभी 1233 विद्यार्थियों ने परीक्षा के लिए आवेदन किए थे। इसमें सभी तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं। पहले से ही शत-प्रतिशत परीक्षा परिणाम की बात आने के बाद परिणाम को लेकर इस बार अधिक उत्साह नहीं रहा और ना ही इस बार मेरिज बनी।



जिले के 16990 विद्यार्थियों ने किया था परीक्षा के लिए आवेदन


जिला शिक्षा अधिकारी कारपेंटर ने बताया कि नियमित स्वाध्याय मिलाकर जिले के कुल 16990 विद्यार्थियों ने परीक्षा के लिए आवेदन किया था। परीक्षा में सभी उत्तीर्ण भी हुए हैं। स्वाध्याय के सभी विद्यार्थी तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं। जिले में 166 सरकारी के साथ करीब 140 निजी स्कूल है। जिनका परीक्षा परिणाम शत प्रतिशत रहा है। जिले का परिणाम शत प्रतिशत रहा है हालांकि मेरिट में स्थान से लेकर निजी और सरकारी स्कूलों का परीक्षा परिणाम से लेकर जिले का प्रदेश में स्थान जैसे मुद्दे पर बात अटकी हुई है। रिजल्ट आने पर कक्षा दसवीं के सभी विद्यार्थियों के चेहरे खिल गए हैं। सभी विद्यार्थियों के चेहरों पर रौनक आ गई है।



जिला पहले तीसरे स्थान पर था लेकिन अब आएगा 29वे नंबर पर



हाई स्कूल के परीक्षा परिणामों में कोरोना के चलते हैं परीक्षाओं के निरस्त होने के बाद बुधवार को आया परिणाम शत-प्रतिशत जरूर रहा लेकिन प्रदेश में जिले की रैंकिंग को औसत नंबर के आधार पर जारी परिणाम में नुकसान हुआ है। परीक्षाओं के आधार पर आए परिणाम में प्रदेश में जिला पहले इस नंबर पर आया था लेकिन बुधवार को आए परिणाम शत प्रतिशत रहने के बाद भी क्रमानुसार देखा जाए तो जिले का प्रदेश में 29 नंबर आएगा। जो प्रदेश में जिले की रैंकिंग के मान से देखा जाए तो नुकसान हुआ है। हालांकि नियमित से लेकर स्वाध्याय सभी जिन्होंने परीक्षा के लिए आवेदन किया था वह उत्तीर्ण हुए हैं।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ