मंदसौर: शहरवासियों का जल संकट खत्म, किसानों की फसल की चिंता समाप्त, अब 2 दिन में मिलने लगेगा पानी, सावन के पहले सप्ताह में शिवना उफान पर, पिछले 24 घंटों में रिकॉर्ड बारिश

 



जिले में बारिश का मौसम तो रूठा हुआ था और किसानों के साथ साथ जिले वासियों के सामने भी जल संकट पैदा हो गया था लेकिन सावन ने अच्छी बारिश की दस्तक के साथ किसानों और जिले वासियों की समस्या दूर कर दी है। जिले में लगातार 50 घंटों तक बारिश का दौर जारी है। गुरु पूर्णिमा के दिन से जिले में अच्छी बारिश होना शुरू हुई और लगातार गिरती रही जिससे किसानों को राहत मिली और बारिश ने जल संकट दूर कर दिया। पिछले 24 घंटों के अंदर जिले में 5 इंच बारिश हुई है। बारिश इतनी तेज हुई थी एक ही दिन में जिले के कई तालाब और बांध भर गए। कई गांव में तो बारिश ने खेतों को तालाब में तब्दील कर दिया। हर गांव के सूखे पड़े नाले उफान पर आ गए।




इस वर्ष पहली बार शिवना उफान पर रही



जिले में बारिश इतनी थी कि हर गांव से पानी बहा कर शहर तक आ गया और सोमवार को मंदसौर के काला भाटा बांध पर पानी और स्लो होने लगा और बांध के गेट खोलने पड़े। सोमवार से शिवना नदी उफान पर चल रही है और सोमवार को सुबह तो छोटी पुलिया पर पानी निकल रहा था और पुलिया नहीं दिख रही थी। यह सब देख कर शिवभक्त तो खुश हुए ही होंगे लेकिन इनके साथ साथ शहर के सभी लोगों को खुशी हुई होगी क्योंकि लंबे समय से शहर में जल संकट चल रहा था जो इस बारिश के कारण समाप्त हो गया है। हालांकि इस बार नदी के पानी से भगवान पशुपतिनाथ का जलाभिषेक नहीं हो पाया है।



नगरपालिका कर रही है पुरानी व्यवस्था लागू



शिवना नदी उफान पर आने के बाद शहरवासियों का जल संकट समाप्त हो गया है और नगर पालिका ने कल से ही पुरानी व्यवस्था चालू कर दी है और अब शहरवासियों को 2 दिन छोड़कर पानी मिलने लगेगा। चंबल से लाई जा रही पाइप लाइन की पूरी क्षमता के साथ टेस्टिंग करने के लिए नगर पालिका सीएमओ ने ठेकेदार को पत्र जारी कर दिया है। जल्द ही टेस्टिंग शुरू कर दी जाएगी। मौसम वैज्ञानिक दुबे जी का कहना है कि सिस्टम गुजरात की ओर जा रहा है जिससे आने वाले कुछ दिनों में कम बारिश हो सकती है। हालांकि इस 4 दिन की बारिश है किसानों को 1 महीने तक की राहत दे दी है। 23 जुलाई से बारिश का दौर शुरू हुआ था और सिर्फ 4 दिन में 8 इंच बारिश हो गई जिससे किसानों को राहत मिल गई है। वहीं बारिश ने जिले की जरूरत को 50% पूरा कर दिया है। नदियां और नाले उफान पर आने से कई लोगों को समस्या हुई है जिसमें मरीजों को अधिक समस्या का सामना करना पड़ा है।



किसानों ने कर दी है प्याज की चौपाई शुरू



अच्छी बारिश होने के बाद किसानों के चेहरे पर रौनक देखने को मिली है और मौसम खुलते ही किसानों ने प्याज की चौपाई शुरू कर दी है। पहले कुओं की हालत बिगड़ी हुई थी और जलस्तर ऊपर आने का नाम ही नहीं ले रहा था। लेकिन इस बारिश के दौरान कुओं का जलस्तर ऊपर आने लगा है। चार दिनों तक तो इतनी बारिश हुई कि किसी को भी खेतों में जाने का मौका ही नहीं मिला और 4 दिनों से लगातार खेतों से पानी बहने लगा। अब जाकर मौसम थोड़ा खुला है और किसानों ने अपने कार्य शुरू किया है। सिस्टम गुजरात चला गया है इसलिए कुछ दिनों तक मौसम खुला रह सकता है इतने में किसान प्याज की चौपाई कर देंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ