नीमच: 100 डायल पुलिस ने निभाया कर्तव्य, रात में अपने बच्चों के साथ बैठी महिला को पुलिस वालों ने अपनी गाड़ी से उसे सकुशल घर पहुंचाया

 





मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार ने लोगों की तुरंत सहायता के लिए 100 डायल सेवा शुरू की थी शुरुआत में यह सेवा काफी चली और इसके अच्छे परिणाम भी सामने आए थे। अभी के समय में यह सेवा ठंडी पड़ गई है और आधे से ज्यादा वाहन गायब हो गए हैं। प्रतिदिन अब हंड्रेड डायल पर शिकायतें आ रही है। घटना होने के बावजूद भी यह समय पर नहीं पहुंच रही है लेकिन इसी बीच नीमच जिले में हंड्रेड डायल स्टाफ अपना कर्तव्य निभाते हुए एक अच्छा कार्य किया है। नीमच में पुलिस ने एक महिला को अपनी गाड़ी से अगर पहुंचाया है। महिला रात्रि के समय अपने बच्चों के साथ अकेली बैठी थी। पुलिस ने महिला को उसके घर तक पहुंचाया।



महिला के साथ उसके दो बच्चे थे, 20 किलोमीटर पुलिस ले गई



नीमच जिले के अंतर्गत जावद थाना क्षेत्र के अंतर्गत गांधी तिराहे पर एक 30 वर्षीय महिला अपने दो बच्चों के साथ बैठी थी और उस समय तेज बारिश भी हो रही थी और महिला को अपने घर जाने के लिए कोई साधन नहीं मिल रहा था। महिला का घर 20 किलोमीटर दूर था इसलिए वह अपने दो बच्चों के साथ अपना सामान लेकर पैदल नहीं जा सकती थी। पूजा मेघवाल नामक महिला ने कोई साधन नहीं मिलने पर रात्रि 9:00 बजे राज्य स्तरीय पुलिस कंट्रोल रूम डायल 100 भोपाल पर मदद मांगी। उक्त सूचना मिलने पर उस क्षेत्र की डायल 100 वाहन क्रमांक 5 को घटना का विवरण देकर रवाना किया गया।



सूचना मिलने के बाद तुरंत पहुंची पुलिस और महिला को घर पहुंचाया



सूचना मिलने के बाद डायल हंड्रेड में तैनात आरक्षक राकेश कटारिया और पायलट सत्यनारायण गायरी द्वारा घटनास्थल पर पहुंचकर 30 वर्षीय महिला जो किसी कार्य से जावद गई हुई थी और उसे घर जाने के लिए कोई साधन नहीं मिल रहा था। महिला का गांव लक्ष्मीपुरा वहां से 20 किलोमीटर दूर था। महिला ने पुलिस वालों से घर पहुंचाने तक की मदद मांगी पुलिस ने मानवीयता का परिचय देते हुए उस महिला और उसके बच्चों को उसी समय लक्ष्मीपुरा गांव स्थित उसके घर पर पहुंचाया गया। रात्रि में महिला की मदद के लिए पुलिस ने कोई कसर नहीं छोड़ी और महिला ने भी 100 डायल और पुलिस स्टाफ की प्रशंसा की। अगर आप भी किसी मुसीबत में हो तो हंड्रेड डायल करके पुलिस से अपनी मदद मांग सकते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ