फिर से आई सोयाबीन तेल में तुफानी तेजी,अनेक मसालो के भाव में भी तेजी का दौर,गरीबो की पहुंच से बाहर जा रही तेल की कीमत

 


वैश्विक स्तर पर तेल बाजार में फिर से तूफानी तेजी आने से वायदे एवं लोकल हाजिर बाजार में सोयाबीन तेल फिर से आसमान छूने लगा है। पहले ही इसकी कीमत 1:30 ₹100 के पार हो चुकी है और यह और महंगा होता जा रहा है। पिछले 24 घंटों में हाजर में ₹20 की तेजी दर्ज की गई है।वायदो में 30 से 40 रुपए की तेजी मंदी आम हो गई है। सोयाबीन तेल में तेजी के बाद ग्राहक की सुस्ती पड़ गई है। सरसों के तेल के भाव में भी बड़ी मंडी के संयोग कम है।


गरीबों की पहुंच से बाहर हो रहा सोयाबीन तेल


तेल इतना बढ़ता जा रहा है कि कुछ लोग तो इसको खरीदने के लिए भी सोच रहे हैं। आखिर इतना महंगा तेल गरीब खरीदे तो उसका बाकी घर कहां से चलेगा। पिछले दिनों सरसों एवं सोयाबीन तेल के भाव में बड़ी मंदी आ गई थी। आपको बता दें कि इससे पहले सोयाबीन तेल का भाव इतना महंगा कभी नहीं हुआ। और तेजी आने का कारण सोयाबीन का कम उत्पादन नहीं है बल्कि अब की बार तो सोयाबीन का उत्पादन रिकॉर्ड स्तर पर 85 से88 लाख टन के करीब बताया जा रहा है।


मसालों में भी तेजी का दौर शुरू


किराना बाजार के मसालों में तेजी का वातावरण बन चुका है। मसालों की आवक कम हो रही है। लॉकडाउन के कारण मसालों की आपूर्ति कठिन हो रही है। बड़ी इलायची, लॉन्ग, दालचीनी, कालीमिर्च एवं गुड़ के भाव में तेजी हो रही है जबकि शक्कर में अच्छी मात्रा में गिरावट आ गई है। लोन की आपूर्ति आए दिन कठिन होती जा रही है जिससे भाव भी ऊंचे होते जा रहे हैं। अपने यहां भी नहीं बल्कि खुद लॉन्ग उत्पादक देश में भी लॉन्ग के भाव ऊंचाई छू रहे हैं। खोपरा गोला एवं बूरा के भाव लगभग स्थित है। किराना बाजार सप्ताह में 3 दिन खुलेगा और चारों तरफ से बंद भी रहेगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Popular Posts