अंधेरे में सिर्फ हुलिया देख हो जाएगी अपराधी की पहचान,एआइ आधारित साफ्टवेयर बनेगा संदिग्ध की पहचान का माध्यम,एक वर्ष का समय लगा तैयार करने में

 


दिन पर दिन बेहतर हो रही तकनीक का इस्तेमाल करके अपराधियों को पकड़ने के नए-नए तरीके सामने आ रहे हैं। अब आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से शारीरिक बनावट के आधार पर अंधेरे में भी अपराधियों की पहचान की जा सकेगी। अभी तक जो अपराधी वेश बदलकर या मुंह ढककर बच निकलते थे उनकी पहचान की जा सकेगी।अभी तक जो अपराधी वेष बदलकर या मुंह ढककर बच निकलते थे,उनकी पहचान नही हो पाती थी लेकिन अब कोई भी अपराधी बच नही पाएगा।


नोएडा की डाक्टर शिवानी वर्मा ने किया साफ्टवेयर तैयार


नोएडा की विज्ञानी डॉ शिवानी वर्मा ने एक ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार किया है जिसमें अगर किसी घटना की फोटो या वीडियो डाली जाए तो घटना में शामिल उस व्यक्ति की पहचान आसानी से हो सकेगी। यह सॉफ्टवेयर पुलिस और सुरक्षा से जुड़ी सभी संस्थाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण साबित होगा। इससे सुरक्षा एजेंसियों और पुलिस के लिए अपराधी की पहचान करना है ना केवल आसान होगा बल्कि इसके जरिए वह अपराधियों को ट्रैक कर उन तक पहुंच भी सकेंगे।

उस

सामान्य कंप्यूटर में भी चल सकेगा सॉफ्टवेयर


नोएडा की एमिटी विश्वविद्यालय के एमिटी इंस्टिट्यूट ऑफ़ स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी की असिस्टेंट ऑफिसर डॉ शिवानी वर्मा ने बताया कि विभाग के निदेशक डॉ एम एस प्रसाद के मार्गदर्शन में उच्च सटीकता के साथ एक व्यक्ति के शारीरिक मापदंडों के आधार पर पहचान करने की प्रणाली विकसित की गई है। इसका उद्देश्य है कि ज्यादा से ज्यादा अपराधियों को पकड़ा जा सके। वह इस सॉफ्टवेयर को इस प्रकार से तैयार कर रही है ताकि इसे आउट करने में ज्यादा खर्च ना आए इंस्टॉल कर आसानी से प्रयोग किया जा सके। क्लास का मॉडल तैयार कर लिया गया है।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Popular Posts

चुन्नु लाला पहुंचा मंदसौर: उदयपुर पुलिस गैंगस्टर को लेकर पहुंची मंदसौर, कोर्ट ने दिया 6 दिन का रिमांड, उदयपुर और मंदसौर पुलिस की कड़ी सुरक्षा में पेशी
मानसून लाने के लिए लोग अपनाने हैं अजीब प्रथाएं, अविवाहित स्त्री को नग्न करके खेत जोताया जाता है, जानिए लोगों की यह प्रथाएं वाकई में काम करती हैं,कब और क्यो शुरू हुई यह प्रथाएं
राहत की किरण: मंदसौर में सामूहिक दुष्कर्म के 5 आरोपियों को मौत तक कैद की सजा, नाबालिग छात्रा को खेत में ले जाकर किया था दुष्कर्म
एक और गड़बड़ी: सिर्फ 6 माह 13 दिन में धंसा 28 करोड़ के शामगढ़ ओवरब्रिज का एप्रोच रोड, रास्ता हुआ बंद, सेतु विकास के इंजीनियर और निगरानी कंपनी की देखरेख में बना ब्रिज
मंदसौर: शहर के मुक्तिधाम में राख और अस्थियों के साथ हो रही छेड़छाड़, कुछ असामाजिक तत्वों ने शमशान को बना दिया है शराब का अड्डा