20 जून तक प्रदेश में पानी लेकर पहुंचेंगे मानसून के बादल, किसानों के लिए राहत का आगमन, गरजता बरसता देश में आगमन कर चुका है मानसून

 


फिलहाल वर्तमान में जो बारिश हो रही है वह मानसून की बारिश नहीं है यह सिस्टम अपडेट होने की वजह से हो रही है। प्रदेश में मानसून का आगमन 15 जून के बाद होगा। मानसून ने गुरुवार सुबह केरल में दस्तक दे दी है। मौसम विभाग के अनुसार अगले 2 दिन में दक्षिण पश्चिम मानसून दक्षिण और मध्य अरब सागर के बाकी हिस्सों में पहुंच जाएगा। रायलसीमा और दक्षिण बंगाल मध्य खाड़ी के कुछ हिस्सों में मानसून के आगे बढ़ने की संभावना बन रही है।


इस बार मानसून 2 दिन लेट पहुंचा है


पिछले वर्ष के मुताबिक इस वर्ष मानसून 2 दिन लेट पहुंचा है। आमतौर पर यह हर वर्ष 1 जून को केरल पहुंच जाता है लेकिन इस वर्ष 4 जून को इसने केरल में दस्तक दी है हालांकि कोई चिंता की बात नहीं है। मौसम विभाग के अनुसार दक्षिणा अरब सागर के निचले स्तरों में पछुआ हवाएं चल रही है। उप ग्रह से मिली तस्वीरों में केरल तट और उससे सटे दक्षिण पूर्वी अरब सागर पर बादल छाए नजर आ रहे हैं।


उत्तर पश्चिम भारत में ज्यादा बारिश होगी


मौसम विभाग के अनुसार जून से सितंबर के बीच उत्तर और पश्चिम भारत में बारिश के ज्यादा आसार दिखाई दे रहे हैं। पंजाब ,हरियाणा ,उत्तराखंड ,राजस्थान के कुछ क्षेत्रों में 108 प्रतिशत तक बारिश संभव है। यूपी बिहार झारखंड पश्चिम बंगाल असम और मध्य प्रदेश के कुछ इलाकों में सामान्य से कम बारिश की संभावना है। केरल तमिलनाडु तेलंगाना आंध्र प्रदेश गोवा ओडिशा में तराना से 107% बारिश हो सकती है। मध्य भारत के राज्य में सामान्य से अधिक बारिश हो सकती है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Popular Posts