किसान खुश : अच्छी बारिश की उम्मीद के साथ बोवनी शुरू, बादलों ने दिलाई गर्मी से राहत, सप्ताह भर के भीतर जिले में एक समान मानसून के आसार

 



जिले में मानसून अभी पूरी तरीके से सक्रिय नहीं हुआ है। कुछ स्थानों पर बारिश हो रही है कुछ स्थानों पर अभी बूंदाबांदी ही हो रही है। लेकिन कुछ स्थानों पर बारिश हो जाने के कारण किसानों के चेहरे पर खुशी छा गई है और बोवनी का कार्यक्रम शुरु हो चुका है।ओ कई गांव में किसानों में खरीफ फसल की बोवनी कर दी है तो कुछ गांव में बारिश बोवनी लायक नहीं हुई है जिसके कारण खेत खाली पड़े हैं।अभी भी जिले के कई क्षैत्र खाली पड़े हैं।इन खाली पड़े क्षेत्रों में किसानों को तेज बारिश का इंतजार है जैसे ही बारिश हो जाएगी किसान बोवनी शुरू कर देंगे। जिन किसानों ने खरीफ फसल की बोवनी कर दी है उनका कहना है कि फिलहाल खेत में नमी है और आगे बारिश होगी इस उम्मीद से हमने फसल की बोवनी कर दी है।


कुछ दिनों में पूरे जिले में आ जाएगा मानसून


किसान उम्मीद कर रहे हैं और मौसम विभाग भी कह रहा है कि आने वाले 1 सप्ताह में पूरे जिले में एक समान मानसून आ जाएगा और बारिश शुरु हो जाएंगी। कृषि विज्ञान एस एन मिश्रा का कहना है कि जिले के कुछ क्षेत्रों में बारिश हो चुकी है वहां पर बोवनी कर सकते हैं। कुछ छात्रों में अभी बारिश नहीं हुई है जिसके कारण बारिश के इंतजार में किसान लोग रुके हुए हैं। 20 जून के बाद तीन चार दिनों तक गिफ्ट हो सकती है उसके बाद जिले में एक साथ मानसून आएगा और बारिश करेगा।


जिले में अभी तक 2 इंच बारिश भी नहीं हुई है


अभी तक तो जिले में 2 इंच बारिश भी नहीं हुई है। गुरुवार से जिले के अलग-अलग क्षेत्रों में बारिश हो रही है लेकिन बारिश में इतना दम नहीं दिख रहा है। थोड़े समय तक सिर्फ बूंदाबांदी होती रहती है और तेज बारिश कुछ ही पल के लिए देखने को मिल रही है। मंदसौर जिले में गुरुवार और शुक्रवार को कुछ क्षेत्रों में तेज बारिश हुई थी और वहां पर किसानों ने खरीफ फसल की बोवनी शुरू कर दी है। सीतामऊ की तरफ वाले गांव में अच्छी बारिश होने के कारण उधर के लगभग सभी गांव में बोनी हो चुकी है।



क्या इस साल भी होगी अधिक बारिश


किसानों को इस वर्ष भी उम्मीद है कि बारिश अधिक होगी और पिछले 2 वर्षों से हो रही बारिश के समान ही इस वर्ष भी बारिश होगी। कई किसानों ने सोयाबीन की बोवनी में इस वर्ष भी रुचि दिखाई है लेकिन कुछ किसानों ने चिंता जताते हुए सोयाबीन की फसल को नहीं बोया और उसकी जगह मूंगफली जैसी उपज लगाई जो अधिक बारिश होने के कारण खराब नहीं होगी। लेकिन इस वर्ष खबर मिल रही है कि बारिश ना ज्यादा अधिक होगी और ना ही ज्यादा कम इसलिए किसानों ने अभी तक जितने भी बोवनी की है वहां पर सोयाबीन ही उगाई है। किसानों को उम्मीद है कि अब लगातार बारिश होती रहेगी।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ