Airtel ने किया अपना पहला 5G नेटवर्क ट्रायल, ट्रायल में देखने को मिली 1gb/सेकंड की स्पीड, 1 मिनट से भी कम समय में हो जाएगी फुल एचडी मूवी डाउनलोड

 



कई दिनों से कई कंपनियों द्वारा खबरें आ रही है कि देश में 5G नेटवर्क आने वाला है लेकिन यह बात सिर्फ चर्चाओं में चल रही है कई कंपनियां 5G नेटवर्क के लिए ट्रायल भी कर रही है। देश की जनता और सरकार सभी देश में 5G नेटवर्क के आने का इंतजार कर रहे हैं और इसीलिए कंपनियां भी 5G नेटवर्क के लिए तेजी से कार्य कर रही है। देश में 5G नेटवर्क लाने के लिए टेलीकॉम कंपनी भारती एयरटेल और टेक्नोलॉजी कंपनी एरिक्सन ने सोमवार को गुरुग्राम के साइबरहब में एयरटेल कंपनी द्वारा 5G नेटवर्क का ट्रायल किया गया। जब कंपनी द्वारा ट्रायल किया गया तो 5G नेटवर्क की स्पीड 1GB पर सेकंड पाई गई यानी कि एक फुल एचडी मूवी 1 मिनट के अंदर ही डाउनलोड हो जाएगी।


कैसे किया जाता है 5G नेटवर्क का ट्रायल


देश में 5G नेटवर्क के के लिए विरोध भी हो रहा है और कई बार विवाद भी हो चुका है लेकिन फिर भी कंपनियों को 5G नेटवर्क लाने के लिए परमिशन दी जा रही है लेकिन परमिशन के साथ-साथ कंपनियों को कुछ शर्तें भी माननी पड़ेगी और एयरटेल यह शर्तें मानने के लिए तैयार है। जानकारी के मुताबिक एरिक्सन ने कहा कि भारतीय एयरटेल और एरिक्सन ने गुरुग्राम के साइबरहब ने भारती एयरटेल के लाइव 5G नेटवर्क का परफॉर्मेंस दिया। इसी के साथ एयरटेल ने साइबरहब में 5G ट्रायल नेटवर्क की शुरुआत की और टेलीकॉम के नियमों के मुताबिक ट्रायल करने वाले स्थान पर 3500 मेगा हर्ट्ज रेडियो स्पेक्ट्रम बैंड का प्रयोग किया जा रहा है।


अगले साल से शुरू हो जाएगी 5G नेटवर्क की व्यवस्था


अच्छी बात है है कि कंपनी ने कहा है कि अगले साल से स्पीड नेटवर्क और 5G की व्यवस्था शुरू हो जाएगी। सरकार ने पांचवी जनरेशन की 5G टेलीग्राम सर्विस अगले वर्ष के शुरुआती महीनों में चालू करने की आशंका जताई है। स्पेक्ट्रम कंपनियों ने एयरटेल को 4 मई को 5G का ट्रायल करने के लिए अनुमति दे दी थी। हालांकि इसमें शर्त रखी गई थी कि कोई भी कंपनी चीनी टेक्नोलॉजी का प्रयोग नहीं कर सकती है। सभी कंपनियों के एप्लीकेशन को मंजूरी मिल गई है। रिलायंस जिओ को भी 5G नेटवर्क की अनुमति मिल गई है जो कि एक भारत मैं विकसित टेक्नोलॉजी है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ