अगस्त तक आ सकती हैं 12 से 18 साल वाले बच्चों के लिए वैक्सीन, वैक्सीन आने के बाद खुलेगी बच्चों के स्कूल की राह, जुलाई तक हो जाएंगे वैक्सीन के सभी ट्रायल

 




देश में 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए अगस्त तक जाइडस कैडिला की वैक्सीन उपलब्ध होने की संभावना है। वैक्सीन का ट्रायल तेजी से चल रहा है और अगस्त तक यह आ सकती है। इसके सभी प्रशिक्षण जुलाई के अंत तक पूरे हो जाएंगे। टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह के कोरोना कार्य समूह के प्रमुख डॉ एनके अरोड़ा ने यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि वैक्सीन के सभी प्रशिक्षण पूरा होने के बाद यह 12 से 18 उम्र के बच्चों को दी जा सकेगी। सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक दवा निर्माता कंपनी जायडस कैडिला ने भारत के औषधि महानियंत्रक को अर्जी दी है। इसमें उसने अपने कोरोना टीके जायकोव डी के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मांगी है।



वैक्सीन वयस्कों और बच्चों दोनों को दी जा सकती है



कंपनी ने दावा किया है कि यह दवाई वयस्कों और बच्चों दोनों को दी जा सकती है। डॉक्टर अरोड़ा ने यह भी कहा कि दूसरे वेरिएंट की तुलना में डेल्टा प्लस वेरिएंट का फेफड़ों के टिशू से ज्यादा जुड़ाव मिला है। लेकिन अब तक यहां पुष्टि नहीं हो पाई है कि यह शरीर को ज्यादा नुकसान पहुंचाता है। डॉक्टर अरोड़ा का यह भी कहना है कि सबसे महत्वपूर्ण यह है कि जिनोम सीक्वेंसिंग का कार्य तेज हुआ है और यहां सही दिशा में आगे बढ़ रहा है। राज्यों को पहले ही बता दिया गया है कि यह एक चिंताजनक वेरिएंट है। जल्द ही बच्चों के यहां वैक्सीन आ जाए उसके बाद प्रशासन का कार्य लाइन पर आ जाएगा। वैक्सीन आने के बाद बच्चों के स्कूल खोलने और बच्चों के बाहर निकलने का रास्ता खुल जाएगा और माता पिता की चिंता भी कम हो जाएगी।


टीकाकरण, प्रोटोकॉल रोक सकते हैं कोरोना की तीसरी लहर


डॉक्टर अरोड़ा ने कहा कि आईसीएमआर ने कहा है कि केरला की तीसरी लहर कुछ समय में आ सकता है। ऐसे में सरकार को टीकाकरण के लिए 6 से 8 महीने का समय लगेगा। इस दौरान रोजाना एक करोड़ से अधिक टीके लगाकर बड़ी आबादी को सुरक्षित करने का लक्ष्य है। वैक्सीन की एक खुराक भी काफी असरदार है। जिस तरह से हम योजना बना रहे हैं , अगर हम तेजी से टीकाकरण करते हैं तो तीसरी लहर आने की संभावना काफी कम हो जाती है। बच्चों के लिए कोरोना टीका आने के बाद स्कूल खुलने का रास्ता साफ हो जाएगा। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के प्रमुख रणदीप गुलेरिया का यह कहना है। उन्होंने कहा है कि महामारी से निपटने का रास्ता टीकाकरण ही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Popular Posts

चुन्नु लाला पहुंचा मंदसौर: उदयपुर पुलिस गैंगस्टर को लेकर पहुंची मंदसौर, कोर्ट ने दिया 6 दिन का रिमांड, उदयपुर और मंदसौर पुलिस की कड़ी सुरक्षा में पेशी
मानसून लाने के लिए लोग अपनाने हैं अजीब प्रथाएं, अविवाहित स्त्री को नग्न करके खेत जोताया जाता है, जानिए लोगों की यह प्रथाएं वाकई में काम करती हैं,कब और क्यो शुरू हुई यह प्रथाएं
राहत की किरण: मंदसौर में सामूहिक दुष्कर्म के 5 आरोपियों को मौत तक कैद की सजा, नाबालिग छात्रा को खेत में ले जाकर किया था दुष्कर्म
एक और गड़बड़ी: सिर्फ 6 माह 13 दिन में धंसा 28 करोड़ के शामगढ़ ओवरब्रिज का एप्रोच रोड, रास्ता हुआ बंद, सेतु विकास के इंजीनियर और निगरानी कंपनी की देखरेख में बना ब्रिज
मंदसौर: शहर के मुक्तिधाम में राख और अस्थियों के साथ हो रही छेड़छाड़, कुछ असामाजिक तत्वों ने शमशान को बना दिया है शराब का अड्डा