पिपलिया मंडी: लाखों की लागत से बना शेड खाली, सड़क पर ही लग रही है सब्जी मंडी, नीलामी भी सड़क पर ही शुरू, कोरोना के नियमों की उड़ रही धज्जियां

 



पिपलिया मंडी में सब्जी मंडी के लिए शेड किसी काम नहीं आ रहा है। पिपलिया मंडी की सब्जी मंडी अभी सड़कों पर ही लग रही है। इसीलिए यहां पर किसी भी नियम का पालन नहीं हो रहा है और ऊपर से कोरोना की गाइड लाइन की धज्जियां उड़ रही है। सब्जी मंडी के लिए शेड बने हुए हैं लेकिन फिर भी नीलामी सड़कों पर ही हो रही है।और सब्जी विक्रेता भी रोड पर ही अपने ठेले लगा कर बैठे हैं। ऐसे में तो सुबह यहां जाम की स्थिति निर्मित हो जाती है। पहले तो सब्जियों की नीलामी विक्रेताओं के लिए बने शेड में ही नियमित रूप से की जा रही थी। लेकिन पिछले सप्ताह से ही इस नियम में बदलाव किया गया और रोड पर ही नीलामी शुरू कर दी गई है।


रहवासियों के लिए परेशानी बढ़ गई है


ऐसी स्थिति में रास्ते के दोनों तरफ सब्जी वालों के ठेले लग जाते हैं और इसी कारण सुबह बंद हो जाता है रास्ता। सुबह-सुबह रास्ता जाम होने की संभावना हो जाती है।ऐसे में रह वासियों को काफी नुकसान और परेशानी होती है। उसके साथ ही सुबह-सुबह सब्जी मंडी में कोरोना की गाइडलाइन की धज्जियां सरेआम उड़ाई जा रही है। किसी पर भी मास्को नहीं दिख रहा है और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन तो बिल्कुल भी नहीं किया जा रहा है।


लाखों की लागत से बना शेड खाली


बात तो यह है कि लोगो पर व्यवस्था होते हुए भी लोक व्यवस्था का सही फायदा नहीं उठा पा रहे हैं। पिपलिया मंडी में सब्जी की नीलामी के लिए पूर्ण रूप से शेड बना हुआ है लेकिन उसके बावजूद लोग रास्ते पर ही सब्जी मंडी लगा कर बैठ जाते हैं। पिछले 1 सप्ताह से सब्जी मंडी रोड पर ही लग रही है और इसके बावजूद भी प्रशासन कार्यवाही नहीं कर रहा है और नाही कोरोना के नियमों का पालन करने के लिए शक्ति अपना रहा है। यह शेड लोगों के लिए 3500000 रुपए में बनकर तैयार हुआ था। लेकिन लोग इसका फायदा नही उठा पा रहे हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ