एमपी बॉर्डर पर सख्ती,दो बारात रुकवाई बारातियों को वापस लौटाया,पुलिस द्वारा अपनाई गई सख्ती

 



निम्बाहेड़ा कोरोना संक्रमण के चलते राजस्थान में मध्यप्रेदश के बॉर्डर पर सख्ती बरती जा रही है बिना अनुमति किसी को भी आने और जाने की अनुमति नहीं है चित्तौड़गढ़ जिले में भी मध्यप्रदेश के बॉर्डर पर स्थित जलिया चेक पोस्ट को सील कर सख्ती से जांच की जा रही है।

एमपी बॉर्डर पर मध्यप्रदेश के अलग-अलग शहरों से बस भर कर बाराती दूल्हे के साथ_ _चित्तौड़गढ़ और भीलवाड़ा की ओर जा रहे थे लेकिन चेक पोस्ट पर उन्हें रोक दिया गया दोनों ही बसों से करीब 85 बारातियों को लौटा दिया गया केवल दूल्हे और कुछ रिश्तेदारों को ही विवाह करने के लिए राजस्थान में प्रवेश करने दिया गया।

वहीं, एक बारात मनासा से आ रही थी तो दूसरी बारात रतलाम से बारातियों से भरी बसों को वापस लौटना पड़ा, जबकि कार में सवार दूल्हे के पास शादी का कार्ड और एसडीओ की परमिशन होने के कारण आगे जाने दिया गया वहीं मंगलवार को सीईओ ज्ञानमल खटीक ने बॉर्डर का निरीक्षण किया है।

जानकारी के अनुसार राजस्थान सरकार की ओर से प्रदेश के सभी बॉर्डर सील कर दिए गए थे इस दौरान आने-जाने वाले निजी वाहनों को रोका जा रहा है जिनके पास मेडिकल इमरजेंसी प्रूफ, क्षेत्रीय गवर्नमेंट की परमिशन है, उन्हीं को आगे जाने दिया जा रहा है ऐसे में मंगलवार को मध्यप्रदेश के मनासा शहर से बस भर के बाराती आए, जिन्हें लौट जाने को कहा ऐसे में दुल्हन ने एसडीएम की परमिशन और शादी का कार्ड दिखाया, जिस पर चेक पोस्ट सहप्रभारी बद्रीलाल रावत और पुलिस ने केवल दूल्हे को आगे जाने की परमिशन दी और बस को लौटा दिया।

इसी तरह रतलाम से भी बारातियों से भरी बस को भी लौटना पड़ा इस दौरान दूल्हे ने मास्क नहीं लगा रखा था, जिस पर प्रभारी रावत ने दूल्हे को मास्क दिया और उनके होने वाली दुल्हन के लिए भी मास्क भेंट किया जानकारी में सामने आया कि दोनों दूल्हों के बाराती बस में थे और बस भरी हुई थी प्रत्येक में औसत 40 से 50 बाराती बैठे हुए थे मनासा से जो बारात आई उसके दूल्हे, उसके पिता, बहन और कार चालक को राजस्थान में प्रवेश करने दिया गया जबकि रतलाम से आई बारात के दूल्हे के साथ दो महिलाएं, दो पुरुष, एक चालक सहित छह लोगों को ही आगे जाने दिया मनासा का दूल्हा बारात लेकर कपासन जा रहा था और रतलाम का दूल्हा भीलवाड़ा जा रहा था दोनों का विवाह मंगलवार रात को हैं।

जिला परिषद सीईओ ज्ञानमल खटीक भी मौके पर पहुंचे और चेक पोस्ट का निरीक्षण किया इस दौरान उन्होंने सारी व्यवस्थाओं का जायजा लिया सारे रिकॉर्ड भी चेक किए सीईओ ज्ञानमल खटीक को सहप्रभारी रावत ने बताया कि आज लगभग 400 से 500 गाड़ी की गाड़ियां आई थी जिनमें से केवल 172 गाड़ियों को ही आगे जाने दिया गया इसके अलावा सभी गाड़ियों को पुनः लौटने को कहा गया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Popular Posts

चुन्नु लाला पहुंचा मंदसौर: उदयपुर पुलिस गैंगस्टर को लेकर पहुंची मंदसौर, कोर्ट ने दिया 6 दिन का रिमांड, उदयपुर और मंदसौर पुलिस की कड़ी सुरक्षा में पेशी
राहत की किरण: मंदसौर में सामूहिक दुष्कर्म के 5 आरोपियों को मौत तक कैद की सजा, नाबालिग छात्रा को खेत में ले जाकर किया था दुष्कर्म
एक और गड़बड़ी: सिर्फ 6 माह 13 दिन में धंसा 28 करोड़ के शामगढ़ ओवरब्रिज का एप्रोच रोड, रास्ता हुआ बंद, सेतु विकास के इंजीनियर और निगरानी कंपनी की देखरेख में बना ब्रिज
मंदसौर: पिपल्या मंडी थाना क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत, किराने की दुकान पर बेची जा रही थी जहरीली शराब, मौके पर पहुंचा प्रशासन
जहरीली शराब से एक और मौत, राजस्थान से आ रही थी मंदसौर में जहरीली शराब, पुलिस ने कार्यवाही कर किया बड़ा खुलासा