ख़ुश खबर: चंबल योजना के तहत ग्राम कोलवी में इंटकवेल पर लगे पंपों की टेस्टिंग की गई।

 


•2 दिन तक की जाएगी पाइपलाइन की टेस्टिंग इसके बाद मंदसौर को मिलने लगेगा पानी।


आखिरकार शहर के लोगों के लिए खुशखबरी आई गई जिसका वह बहुत दिनों से इंतजार कर रहे थे, अधिकारियों द्वारा शुक्रवार को ग्राम कोलवी में इंटरवेल पर लगे पंप की टेस्टिंग कर , पानी लेना शुरू कर दिया। अब इस लाइन को जोड़ा जाएगा 2 से 3 दिन तक इसके सफाई की जाएगी। इसमें देखा जाएगा कि कोई समस्या तो नहीं आ रही है, अगर समस्या हुई तो उसे ठीक किया जाएगा, नहीं तो चौथे दिन तक मंदसौर को चंबल का पानी मिलने लग जाएगा।


प्यार के लोगों को बहुत दिनों के बाद खुशखबरी मिली है जिसका वह बहुत दिनों तक इंतजार कर रहे थे शहर के लोगों को आखिरकार चंबल का पानी मिल ही जाएगा। शुक्रवार को ग्राम कोलवी में  बने इंटकवेल  पंप  पर बिजली लाइन पहुंचने के बाद इसकी टेस्टिंग हुई। टेस्टिंग में कई अधिकारी मौजूद थे। अधिकारी द्वारा टेस्टिंग की गई जिसमें 350 हॉर्स पावर के  एक पंप को चलाकर पानी बाहर फेंका गया। इसी तरह शनिवार को दूसरे व तीसरे पंप की भी टेस्टिंग की जाएगी। इसके बाद इस लाइन को मंदसौर आ रही पेयजल लाइन से जोड़ा जाएगा। जिसके बाद एक बार फिर से इसकी टेस्टिंग की जाएगी।  पेयजल लाइन की टेस्टिंग में 2 से 3 दिन का समय लगेगा , अगर इसमें कोई समस्या नहीं हुई तो जल्द ही चंबल का पानी मंदसौर आ जाएगा।


इस तरह की जाएगी सफाई हो टेस्टिंग 


पीएचई कार्यपालन यंत्री संदीप दुबे ने बताया कि संबल योजना में जो 53 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन बिछाई गई है उसमें आठ जगह स्कावर लगाए हैं, पहले पाइपलाइन को पूरी तरह से भरा जाएगा इसके बाद स्कावर वाल द्वारा गंदगी निकाली जाएगी, फिर पानी भर प्रेशर से पाइप लाइन की टेस्टिंग की जाएगी। यदि इस 53 किलोमीटर पाइप लाइन में यदि कोई समस्या नहीं हुई तो अगले ही सप्ताह की शुरुआत से से मंदसौर को पानी मिलने लग जाएगा।


इसलिए लगेगा समय


अधिकारी संदीप दुबे ने बताया कि पंप चला राउस कर रहे हैं, इसी तरह तीनों पंपों की टेस्टिंग की जाएगी। इसके बाद इंटक वेल पंप के यॅहा जो पानी यूं ही बहाया जा रहा है उसे शहर की पेयजल पाइप लाइन से जोड़ा जाएगा जिसमें करीब एक-दो दिन का समय लग जाएगा, इसके बाद 18 से 20 घंटे का समय पूरी पाइपलाइन को भरने में लगेगा। इसकी सफाई की जाएगी जिसके बाद फिर टेस्टिंग में उतना ही समय लगेगा। इसके अंदर ही कहीं छोटे-छोटे काम है जिसमें 3 -4 दिन का समय लग जाएगा। इसके बाद सब सही हो गया तो चंबल का पानी मंदसौर आ जाएगा।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ