शादियों में नहीं किया जा रहा है कोरोना गाइडलाइन का पालन, सरेआम हो रहा है नियमों के साथ खिलवाड़, ना ही कोई कार्यवाही की जा रही है

 



शादी की परमिशन के लिए एसडीएम कार्यालय पर लग रही भीड़, सोशल डिस्टेंसिंग का नही हो रहा पालन, व्यवस्था बनाने नही कोई कर्मचारी तैनात नही दिखा।  कोरोना महामारी के इस विकट दौर में जिले की बागडोर जहां जिला कलेक्टर मयंक अग्रवाल के हाथ में है विषम परिस्थिति से निपटने के लिए प्रशासन भी मुस्तेद और अलर्ट है जहां एक और कलेक्टर मयंक अग्रवाल ने कोरोना की चेन तोड़ने को लेकर कुछ विभागों में चुनिंदा लोगों से ही कार्य चलाया जा रहा है साथ ही शादी व मौत में 20 से 25 लोगों की ही परमिशन दी जा रही है ऐसे में जिला कलेक्टर की नाक के नीचे ही उन्हीं के दफ्तर में एसडीएम कार्यालय के बाहर शादी


 परमिशन लेने आए लोगों के बीच कहीं भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होता नहीं दिख रहा है



यही नहीं कलेक्टर के निर्देशों का पालन कराने को लेकर इस स्थान पर ना ही कोई कर्मचारी तैनात है और ना ही कोई जिम्मेदार व्यक्ति जो वहां व्यवस्था बना सके, शादी की परमिशन लेने आए एक शख्स अनुराग सुराह ने बताया कि वह खुद 15 मिनट से परमिशन के लिए लाइन में खड़ा है परंतु लोगों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा है लाइन में सब एक दुसरो के काफी पास खड़े है भय के मारे वह खुद लाइन से दूर हट गया था कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके और वह कोरोना के संक्रमण से बच सकें।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां