महाराणा प्रताप बस स्टैंड से भगवान श्री पशुपतिनाथ मंदिर सीधा पहुंच मार्ग बनेगा, कलेक्टर ने कर दिखाया 1 महीने में एक और अच्छा कार्य

 


मंदसौर जिला कांग्रेस की कार्यकारी श्रीमती शाकेरा खेडीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बताया कि मंदसौर जिले में महाराणा प्रताप बस स्टैंड से लेकर भगवान श्री पशुपतिनाथ मंदिर के लिए विशेष मार्ग की आवश्यकता नगर में कई वर्षों से महसूस की जा रही थी। इस सीधे पहुंच मार्ग हेतु 8 जनवरी 2010 को कांग्रेस पार्षद द्वारा एक निजी प्रस्ताव नगर पालिका परिषद द्वारा चलाया गया एक सामान्य सम्मेलन में लाया गया था। परिषद की बैठक में यह प्रस्ताव सर्वसम्मति से मंजूर किया गया था।


शिवना नदी पर 8 करोड़ रुपए का ब्रिज निर्माण हुआ


उस प्रस्ताव के तहत शिवना नदी पर 8 करोड़ की लागत से पुल का निर्माण होगा तथा चार करोड़ की लागत से लक्कड़पीठा और ब्रिज का निर्माण हुआ। इसी प्रकार इन दोनों ब्रिज के बीच लिंक बीज का निर्माण सिंहस्थ की मद से 12 करोड़ की लागत से किया गया था। इस प्रकार नगर पालिका एवं शासन द्वारा लगभग 25 करोड़ खर्च करने के बाद भी जनता को इसका लाभ पूर्ण रूप से नहीं मिल पा रहा है। धान मंडी में मार्ग के बीच अवरोध के रूप में कुछ मकान बने हुए थे जिसके कारण पुल निर्माण होने में समस्या आ रही थी।


नपा 10 साल से नहीं कर पाई यह कार्य


अवरोधक मकान के कारण इस सीधे पहुंच मार्ग में बाधा उत्पन्न हो रही थी जिसे हटाने के लिए परिषद की बैठक में लगातार इस बात को उठाने के बावजूद मध्य प्रदेश द्वारा शासित परिषद में इस पर ध्यान ही नहीं दिया। कांग्रेस द्वारा इस बाधक मकान को हटाने के लिए कई धरने भी दिए गए। परंतु नगर पालिका द्वारा इस पर कोई कार्यवाही नहीं की गई।मीडिया के माध्यम से भी इस मुद्दे को कई बार उठाया गया लेकिन इस पर भी नगरपालिका ने बिल्कुल ध्यान नहीं दिया और पिछले 10 वर्षों से इस मुद्दे पर कुछ भी कार्य नहीं कर पाए। परंतु इन सब के बावजूद मंदसौर के वर्तमान कलेक्टर श्री मनोज पुष्प ने इस बात को साबित कर दिखाया और और अवरोधक के रूप में आने वाले मार्ग मकानों को हटवा दिया गया।जिसे नगरपालिका 10 वर्षों में नहीं कर पाई उसे कलेक्टर ने नपा प्रशासन रहते हुए एक माह में कर दिखाया। अब यह मार्ग जल्द ही बन जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ