3 दिनों की छुट्टी के बाद खुली कृषि उपज मंडी, लहसुन की बंपर आवक, कई वाहनों को बाहर रहना पड़ा खड़ा



मंदसौर कृषि उपज मंडी में पिछले 3 दिनों से अवकाश चल रहा था और 3 दिनों के अवकाश के बाद सोमवार को नीलामी शुरू हुई। 3 दिनों से अवकाश रह जाने के कारण सोमवार को मंडी में क्षमता से अधिक आवक हो गई। मंडी का बड़ा हिस्सा लहसुन से चमकता नजर आया। मंडी में उपज के ढेर लग जाने के बाद मंडी के बाहर भी कई वाहनों को लाइन में खड़ा रहना पड़ा। देर शाम को इन वाहनों को मंडी में प्रवेश दे दिया गया।


 व्यापारी संघ ने जीएसटी के विरोध में रखी थी मंडी बंद


आपको बता दें कि शुक्रवार को मंडी व्यापारी संघ ने जीएसटी के विरोध में नीलामी कार्य को बंद रखा था इसके लिए मंडी में 3 दिन का अवकाश पड़ गया।ऐसे में जब 3 दिनों तक मंडी में अवकाश रहा और उसके बाद मंडी में नीलामी शुरू हुई तो किसान रविवार रात से मंडी में अपनी उपज लेकर आना शुरू हो गए और सुबह तक तो लहसुन की मंडी में बंपर आवक हो गई। नीलामी शुरू होने से पहले ही मंडी परिषद में उपज के ढेर लग गए। जब हम मंडी में उपज रखने के लिए जगह नहीं बची तो गेट बंद कर दिए गए। इसके कारण दोपहर तक मंडी के बाहर किसानों की लाइन लगी रही। इनको नीलामी के बाद देर शाम तक मंडी में प्रवेश दिया गया।


नई लहसुन की आवक अधिक हुई, वाहन बाहर रोकने पड़े


मंडी सचिव पर्वत सिंह सिसोदिया ने बताया कि आवक अधिक होने के कारण जो किसान बाहर रह गए थे उन्हें देर शाम तक अंदर प्रवेश दे दिया गया था। इनमें अधिकांश किसान लहसुन को लेकर आए थे। लहसुन की आवक उम्मीद से ज्यादा आ जाने के कारण परिसर में उपज खाली करने के लिए जगह नहीं बची थी जिसके कारण किसानों को बाहर खड़ा रहना पड़ गया। मंडी में लगभग 36000 बोरी से भी अधिक उपज की नीलामी हुई। जिसमें से 23000 बोरी लहसुन की आवक हुई। 4000 बोरी सोयाबीन की आवक रही। और बाकी बोरिया बचे हुए उपज की आई।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ