पीएम मोदी और शिवराजसिंह चौहान को बदनाम करने की साजिश, फव्वारा चौक पर हाई मास्क छिन सकता था कई जिंदगिया, बडा हादसा टला

 



नीमच शहर के हृदय स्थल माना जाने वाला फव्वारा चौक पर गुरूवार को भीषण हादसा होते—होते टल गया। करीब 16 मीटर उंची खंब लाईट ( हाई मास्क) गिर गया। लेकिन वह पुरा नीचे नहीं गिरा और वह बडी बिजली लाईन के तारों में झूल गया।अच्छा हुआ कि वह नीचे नही गिरा लेकिन जिस समय वह गिरा उस समय लाइन में करंट चालू था। खंब गिरते ही वह करंट से टकराया और उसमें चिंगारी उठ गई।चिंगारी गिरते ही लोगों ने देखा और लोगों के होश उड़ गए। सभी लोग घटना की ओर एक नजर से देखते ही रह गए। अब सवाल यह उठता है कि यह हाई मास्क अचानक हवा के झोंकों से कैसे गिर सकता है?


हाई मास्क गिरने से हो सकता था बड़ा हादसा


बिजली के तार पर हाई मास्क गिरने के कारण एक बडा हादसा हो सकता थाऔर कई लोगों की जिंदगी जा सकती थी। इस घटना के पीछे लापरवाही किसकी थी, घटना के क्या कारण रहे होंगे। मामले की जब जांच की गई तो एक चौका देने वाली जानकारी जानकारी सामने आई की इस घटना के सहारे देश के पीएम मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को बदनाम करने की साजिश रचने की कोशिश की जा रही थी ऐसी आशंका जताई जा रही है। क्योंकि इस घटना के कारण कई लोगों की जिंदगी बर्बाद हो सकती थी और मरने वालों पर कई दिनों की राजनीति चल सकती थी। यह  कांग्रेसियों का कार्य भी हो सकता है या फिर स्मैक्ची की करतूत। हाई मास्क में 6 नटे थी और इनमें से 4 नटे गायब थी यानी कि यह 4 नटे किसी के द्वारा निकाली गई थी।


सिर्फ दो नटो पर टिका हुआ था कई किलो वजनी हाई मास्क 


सवाल यह उठता है कि कई किलो वजनी हाईमास्क सिर्फ दो नटों पर ही टिका हुआ था। जैसे ही गुरूवार सुबह करीब 11 बजे तेज हवा चली तो हाईमास्क धडाम से बिजली के नंगे तारों पर जा गिरा और होटल जिंदल के सामने तार पर अटक गया। अगर तार टूट कर नीचे गिर जाते थे नीचे फूल माला वाले बैठे हुए थे और कई लोग भी रोड से गुजर रहे थे। अगर तार नीचे गिर जाते तो निश्चित ही बडा हादसा हो सकता था। हालांकि मामले की सच्चाई सीसीटीवी कैमरे के द्वारा सामने लाई जाएगी। फव्वारा चौक में चारों तरफ कैमरे लगे हुए हैं जिसमें आरोपी की करामत कैद हो गई होगी। नीमच कैंट टीआई अजय सारवान ने बताया किइस मामले की जांच के लिए स्पेशल टीम गठित की गई है। दोषी के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।


नगर पालिका को रखना चाहिए ध्यान


शहर में ऐसे कई हाई मास्क लगे हुए हैं लेकिन उनकी रखरखाव के लिए कोई नियम नहीं है और ना ही कोई व्यक्ति गठित किया गया है। शहर में करीब 30 हाई मास्क लगे हुए हैं किस की निगरानी के लिए नगर पालिका को ध्यान देना चाहिए। नगर पालिका के कर्मचारियों कोहाई मास्क की नटो का समय के अनुसार चेक करना चाहिए। अगर ऐसे ही लापरवाही या होती रही तो शहर में कई हादसे हो सकते हैं।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Popular Posts

चुन्नु लाला पहुंचा मंदसौर: उदयपुर पुलिस गैंगस्टर को लेकर पहुंची मंदसौर, कोर्ट ने दिया 6 दिन का रिमांड, उदयपुर और मंदसौर पुलिस की कड़ी सुरक्षा में पेशी
राहत की किरण: मंदसौर में सामूहिक दुष्कर्म के 5 आरोपियों को मौत तक कैद की सजा, नाबालिग छात्रा को खेत में ले जाकर किया था दुष्कर्म
एक और गड़बड़ी: सिर्फ 6 माह 13 दिन में धंसा 28 करोड़ के शामगढ़ ओवरब्रिज का एप्रोच रोड, रास्ता हुआ बंद, सेतु विकास के इंजीनियर और निगरानी कंपनी की देखरेख में बना ब्रिज
मंदसौर: पिपल्या मंडी थाना क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत, किराने की दुकान पर बेची जा रही थी जहरीली शराब, मौके पर पहुंचा प्रशासन
मंदसौर: शहर के मुक्तिधाम में राख और अस्थियों के साथ हो रही छेड़छाड़, कुछ असामाजिक तत्वों ने शमशान को बना दिया है शराब का अड्डा