कर्मचारियों ने मजाक बनाकर रख दिया है 181 (सीएम हेल्पलाइन) सेवा को, लोगों की समस्या का समाधान करने के लिए चालू की गई थी यह सेवा

 



मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार द्वारा जनता की समस्याओं का तुरंत निराकरण करने के लिए मुख्यमंत्री सहायता संचार सेवा चालू कर रखी है जिसके अंतर्गत प्रदेश में अगर किसी भी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की समस्या हो, किसी अधिकारी या कर्मचारी द्वारा रिश्वत ली जा रही हो या उनके द्वारा दिए गए आवेदन का निराकरण काफी लंबे समय से नहीं हो रहा हो तो इसी प्रकार की हर समस्या का समाधान या और भी दूसरी प्रकार की समस्याओं का समाधान शिवराज सिंह चौहान द्वारा बनाई गई इस योजना पर तुरंत हो जाता है। सीएम हेल्पलाइन नंबर पर हम फोन लगाकर हम अपना पता बता कर अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं और यह शिकायत पूरी होने तक हम से जानकारी लेते ही रहते हैं।


लोगों के फायदे के लिए बनाई गई थी यह योजना


मध्य प्रदेश सरकार द्वारा यह योजना लोगों की भलाई के लिए चलाई गई थी। पहले प्रदेश में कई जगहों पर रिश्वत ली जाती थी। कई गरीब लोगों की सुनवाई नहीं की जाती थी और ऐसी ही कई प्रकार की समस्याएं प्रदेश के लोगों को होती थी। और इन लोगों की समस्याओं पर ध्यान देने वाला कोई नहीं था।इसी को ध्यान में रखते हुए शिवराज सिंह चौहान द्वारा सीएम हेल्पलाइन योजना चालू की गई थी जिसमें लोग अपनी हर प्रकार की समस्या बता सकते हैं। समस्या बताने के बाद जब तक समस्या का समाधान नहीं हो जाता है सीएम हेल्पलाइन सेंटर हमसे जानकारी लेता रहता है। यानी कि इस योजना में अगर एक बार किसी के द्वारा शिकायत दर्ज करवा दी गई तो उस शिकायत का निराकरण अवश्य होगा और उसके बाद हमसे शिकायत वापस लेने की बात कही जाएगी अगर आप किए गए कार्य से संतुष्ट हो तो। यह योजना काफी अच्छे से कार्य कर रही है। इस योजना में शिकायत करने पर हमारी समस्या का समाधान तुरंत हो जाता है।


अभी कुछ दिनों से 181 को मजाक बना रखा है कर्मचारियों ने


मध्य प्रदेश सरकार द्वारा चलाई गई योजना काफी अच्छे से कार्य भी कर रही है और लोगों के मन को को भी खुश कर रही है। लेकिन आज इस योजना को मुंह चढ़ाने के लिए 181 सेवा पर बैठे कर्मचारियों की कुछ शान पट्टी कह लो या उन्होंने लोगों को मजाक समझ रखा है जो अपनी पीड़ा सुनाते हैं और यह फोन काट देते हैं। उनके द्वारा मामा शिवराज को बदनाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है। अब यह होता है कि आम नागरिक द्वारा फोन लगाया जाता है साधारणतया तो 10 बार फोन लगाने पर एक बार लगता है और उसने भी जब आमजन द्वारा अपनी शिकायत बताई जा रही हो तो शिकायत सुनने से पहले ही फोन काट दिया जाता है। कई बार तो ऐसा होता है कि वह लोगों को इंतजार करने के लिए कह देते हैं।  कभी-कभी फोन लगाने के बाद फोन अचानक कट जाता है ऐसा हमें कई बार देखने को भी मिला है। इसलिए मामा शिवराज सिंह चौहान को इसकी और ध्यान देकर सीएम हेल्पलाइन पर पदस्थ कर्मचारियों को निर्देश देने चाहिए कि लोगों की समस्याओं को पूरी सुने और सही प्रकार से लिखें और उसका निराकरण भी किया जाए। अगर थोड़े समय तक ऐसा नहीं हुआ तो इस योजना का मजाक बन जाएगा।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां