नकली दवाई बेचने पर किसान की 12 बीघा में खड़ी लहसुन हुई खराब, किसान की शिकायत पर प्रशासन ने राठौर बीज भंडार को किया सील



मनासा में अपनी 12 बीघा लहसुन में खरपतवार नष्ट करने के लिए किसान ने शहर के मंदसौर नाका स्थित राठौर बीज भंडार से खरपतवार नाशक दवाई खरीदी।जिसको किसान ने अपनी 12 बीघा खेत में खड़ी लहसुन में उसका छिड़काव किया।किसान द्वारा फसल पर दवाई छिड़काव करने के बाद किसान की आधी से ज्यादा फसल पूरी तरह से नष्ट हो गई।फसल के नष्ट होने पर बंटाईदार ने किसान से नष्ट हुई फसल की एवज में राशि की मांग की ।


किसान ने दुकानदार के खिलाफ एसडीएम कार्यालय में शिकायत की


इस घटना से परेशान किसान ने दुकानदार के खिलाफ एसडीएम कार्यालय में शिकायत दर्ज करवाई। इसके बाद बुधवार शाम 4 बजे प्रशाशन ने   जिस दुकान से किसान ने खरपतवार नाशक खरीदा था उस दुकान राठौर बीज भंडार को सील किया गया। वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी ताहिर अलिशेख ने कहा कि मुझे किसी भी शिकायत पर कार्रवाई करने की परमिशन नहीं है। एसडीएम के निर्देश पर ही हम कार्यवाही कर सकते हैं।


किसान ने 3300 रुपए में खरीदी थी खरपतवार की दवा


किसान चन्द्र प्रकाश पिता भगदीराम  धनगर निवासी हामाखेडी ने बताया कि मेरे द्वारा भागीरथ पिता कारुलाल धनगर निवासी सोनडी के खेत पर बंटाई पर 12 बीघा खेत में लहसुन की फसल उगाई थी। जिस में खरपतवार नष्ट करने के लिए शहर के मंदसौर नाका स्थित राठौर बीज भंडार से 6 लीटर आईपीएल पेन मिजा खरपतवार नाशक दवाई खरीदी। जिसके एवज में किसान ने दुकानदार को 3300 रूपए दिए थे। किसान ने जब दुकानदार से पक्का बिल मांगा तो उसने कहा कि "मैं बैठा हूं,कोई समस्या नहीं होगी। किसान को कच्चा बिल थमा दिया गया। उस दवाई का छिड़काव करने से किसान की 12 बिघा में खडी लहसुन आधी से ज्यादा नष्ट हो गई।


कृषि विभाग ने नहीं की कोई कार्यवाही 


शिकायतकर्ता ने बताया कि मेरे द्वारा फसल नष्ट होने पर वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी मनासा को शिकायत की गई थी। कृषि विभाग के अधिकारियों द्वारा कार्रवाई नहीं करने पर एसडीएम मनासा को 30 दिसंबर 2020 को दोबारा शिकायत कर कार्यवाही की मांग की गई। एसडीएम के निर्देश पर तहसीलदार एम एल वर्मा ,कृषि विभाग के अधिकारि एवं थाना प्रभारी की उपस्थिति में राठौर बीज भंडार को सील किया गया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ