ओलावृष्टि से प्रभावित फसलों का जायजा लेने खेतों में पहुंचे एसडीएम, ओलावृष्टि के कारण कई गांवों में फसलों को काफी नुकसान पहुंचा है

 


रविवार को पूरे प्रदेश में मौसम की मार रही थी। प्रदेश के कई इलाकों में ओलावृष्टि हुई जिसके कारण फसलों को काफी नुकसान पहुंचा है। रविवार रात को हुई ओलावृष्टि से सिंगोली, रतनगढ़  व जावद के 2 दर्जन से अधिक गांवों में किसानों की फसलों को काफी नुकसान पहुंचा है। कई इलाकों में तो ओले गिरने से रावे की फसल जलकर पूरी तरह से नष्ट हो गई।

कलेक्टर ने दिए फसलों के सर्वे कराने के निर्देश

ओलावृष्टि के कारण कलेक्टर ने ओलावृष्टि से प्रभावित क्षेत्रों में फसलों के सर्वे कराने के निर्देश जारी किए हैं। और यह भी कहा है कि फसलों को जिस प्रकार से नुकसान हुआ है उतना ही मुआवजा किसानों को मिल जाएगा। मंगलवार को जावद एसडीएम राजेंद्र सिंह अन्य अधिकारियों के साथ खेतों में पहुंचे और नुकसान का जायजा लिया। प्रदेश में रविवार और सोमवार को मौसम काफी खराब रहा और इन्हीं दिनों में ओलावृष्टि भी हुई।

सप्ताह भर से प्रदेश में बारिश का दौर जारी है

उल्लेखनीय है कि सप्ताह भर से पूरे प्रदेश में बारिश का दौर जारी है कहीं पर ज्यादा तो कहीं पर कम बारिश हो रही है और कुछ इलाकों में तो ओलावृष्टि भी हो रही है जिन से किसानों की फसलें पूरी तरह से नष्ट हो रही है। रविवार सोमवार की दरमियानी रात करीब 3:00 बजे सिंगोली क्षेत्र की 3 ग्राम पंचायत जाट, श्रीपुरा और दौलतपुरा में ओलावृष्टि शुरू हो गई। ओलावृष्टि का दौर करीब 45 मिनट तक जारी रहा। इन 3 ग्राम पंचायत के करीब 25 गांव में ओलावृष्टि के कारण फसलें बर्बाद हुई।

मनरेगा: ऑनलाइन भुगतान करने में जिला प्रदेश में चौथे स्थान पर

शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश के सभी जिलों के अधिकारियों से जिले पर चल रहे कार्य पर चर्चा की। इस दौरान उन्होंने जिला पंचायत के मनरेगा में मजदूरों के ऑनलाइन पेमेंट के संबंध जिला पंचायत के कार्यों की विशेष सराहना की। मंदसौर जिला पंचायत में मनरेगा के माध्यम से जिन लोगों ने मजदूरी की उनका ऑनलाइन भुगतान तीव्र गति से 90% ऑनलाइन माध्यम से कर दिया गया। मंदसौर जिले में इस में चौथा स्थान प्राप्त किया है जबकि प्रथम स्थान पर सीहोर जिला है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ